स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Tamilnadu: तमिलनाडु में महिला अपराधों में कमी

Ashok Rajpurohit

Publish: Oct 23, 2019 12:20 PM | Updated: Oct 23, 2019 12:20 PM

Chennai

तमिलनाडु (Tamilnadu) में वर्ष 2017 में तीन महिलाओं(Women) पर तेजाब से हमला हुआ। 984 ऐसे मामले थे जिसमें पति (Husband) या उसके रिश्तेदारों ने क्रूरता की।

चेन्नई. देश के अन्य बड़े प्रदेशों की तुलना में महिलाओं पर अपराध के मामले कम सामने आए हैं। अन्य प्रदेशों की तुलना में तमिलनाडु महिला सुरक्षा के लिहाज से ठीक साबित हुआ है।
वर्ष 2017 में उत्तरप्रदेश में महिलाओं के खिलाफ सर्वाधिक 56011 अपराध दर्ज हुए। महाराष्ट्र में 31979 मामले जबकि पश्चिम बंगाल में 30992 मामले दर्ज हुए। मध्यप्रदेश में 29788, राजस्थान में 25993, असम में 23082 तथा ओडिशा में 20098 मामले दर्ज हुए। तमिलनाडु में केवल 5997 मामले दर्ज हुए।

दहेज हत्या के 48 मामले

तमिलनाडु में दो महिलाओं की बलात्कार के बाद हत्या कर दी गई। दहेज हत्या के 48 मामले सामने आए। 220 महिलाओं ने आत्महत्या की। तमिलनाडु में वर्ष 2017 में तीन महिलाओं पर तेजाब से हमला हुआ। 984 ऐसे मामले थे जिसमें पति या उसके रिश्तेदारों ने क्रूरता की।

आगे बढऩे में मददगार साबित
हालांकि महिला अपराधों में कमी आई है। लेकिन और कमी लाने की जरूरत है। महिलाएं आज शिक्षित हो रही है। हर क्षेत्र में आगे आ रही है। अपने अधिकारों को जानने-समझने लगी है। अपने पैरों पर खड़ी हुई है। ये सकारात्मक बातें भी महिलाओं को आगे बढऩे में मददगार साबित हुई है।