स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Tamilnadu: अपराध करने वालों में कम पढ़े-लिखे किशोर अधिक

Ashok Rajpurohit

Publish: Oct 23, 2019 13:06 PM | Updated: Oct 23, 2019 13:06 PM

Chennai

वर्ष 2017 में गिरफ्तार (Arrest) किए 706 में से 646 बाल अपराधी रहते हैं परिवार (Family) के साथ

चेन्नई. महानगर में वर्ष 2017 में 706 बाल अपराधियों को गिरफ्तार किया। अपराध करने वालों में कम पढ़े लिखे किशोरों की संख्या अधिक थी। वहीं अधिकांश ऐसे थे जो अपने परिवार के साथ रह रहे थे।
चेन्नई महानगर में गिरफ्तार किए 706 बाल अपराधियों के शैक्षिक दृष्टिकोण को देखा जाएं तो इनमें 576 पांचवी से दसवीं तक पढ़े थे।

अधिक पढ़े-लिखे बाल अपराधी कम

48 पांचवी तक पढ़े लिखे तथा 7 अनपढ़ थे। अपराध करने वालों में दसवीं से हायर सैकण्डरी तक पढ़े लिखे में 68 थे तो हायर सैकण्डरी से ऊपर पढ़ाई कर चुके केवल 7 अपराधी थे। यानी अधिक पढ़े-लिखे बाल अपराधी कम थे।

646 अपराधी परिवार के साथ रहते थे
पारिवारिक पृष्ठभूमि की अगर बात की जाएं तो 706 में से 646 अपराधी ऐसे थे जो अपने परिवार के साथ रहते थे। इनमें 34 अपने अभिभावकों के साथ रहते थे। वहीं 26 बेघर थे।

रचनात्मक गतिविधियों में प्रेरित करने की जरूरत

मनोचिकित्सकों का कहना है कि बाल अपराधियों को काउंसलिंग के माध्यम से भ्रमित होने से बचाया जा सकता है। स्कूली पाठ्यक्रम के दौरान ही विद्यार्थियों को विभिन्न खेलकूद एवं अन्य तरह की रचनात्मक गतिविधियों में अधिकाधिक रूचि लेने के लिए लगातार प्रेरित करने की जरूरत है।