स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पंजाब में सहकारी संस्थानों और जेलों की खाली जमीन पर इंडियन ऑयल कार्पोंरेशन खोलेगा पेट्रोल पम्प

Prateek Saini

Publish: May 30, 2019 15:33 PM | Updated: May 30, 2019 15:33 PM

Chandigarh Punjab

आईओसी और सहकारिता विभाग के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर...

 

(चंडीगढ): देश की प्रमुख तेल कम्पनी इंडियन आयल कार्पोरेशन पंजाब में सहकारी संस्थानों व जेलों की खाली जमीन पर पेट्रोल पम्प खोलेगी। इस सिलसिले में बुधवार को यहां आईओसी व पंजाब के सहकारिता विभाग के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। जेलों की खाली जमीन पर पेट्रोल पम्प खोलने के लिए जेल विभाग के साथ समझौता ज्ञापन पर जल्दी ही हस्ताक्षर किए जायेंगे।

सहकारिता विभाग और आईओसी के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर के लिए आयोजित कार्यक्रम में सहकारिता व जेल मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा और सहकारिता विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव विश्वजीत खन्ना मौजूद थे। इंडियन ऑयल कार्पोंरेशन के कार्यकारी निदेशक सुजाॅय चैधरी भी इस मौके पर मौजूद थे।

सहकारिता मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर के बाद कहा कि पंजाब की सहकारी संस्थाओं मिल्क फैड,मार्क फैड और शुगर फैड के साथ ही प्राथमिक सहकारी संस्थाओं की काफी जमीन खाली है। इस खाली जमीन पर आईओसी समझौते के तहत पेट्रोल पम्प खोलेगा। इन पेट्रोल पम्पों पर इन सहकारी संस्थानों के उत्पाद भी बेचे जायेंगे। साथ ही किसानों को खाद-बीज जैसी वस्तुए भी मिलेंगी। इससे सहकारी संस्थानों की आय बढेगी और रोजगार के अवसर पैदा होंगे। उन्होंने कहा कि साथ ही इन पेट्रोल पम्पों पर किसानों को डीजल व पेट्रोल उधार पर मिलेंगे। इसका भुगतान फसल की बिक्री के बाद किया जा सकेगा।

रंधावा ने बताया कि सहकारिता विभाग के साथ समझौते के बाद पंजाब की जेलों की खाली जमीन पर भी पेट्रोल पम्प खोलने के लिए भी आईओसी के साथ जल्दी ही समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए जायेंगे। जेलों की खाली जमीन पर पेट्रोल पम्प लगाने से होने वाली आय जेलों को ही दी जायेगी। उन्होंने बताया अच्छे चाल-चलन वाले कैदियों को इन पेट्रोल पम्पों पर काम करने का अवसर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि हालातवश अपराध करने वाले कैदियों को यह अवसर दिया जाएगा। जघन्य अपराध में लिप्त कैदियों को यह अवसर नहीं मिलेगा। जेलों में भ्रष्टाचार के मामलों में रंधावा ने कहा कि वे जीरों टालरेंस की नीति पर चल रहे है। पटियाला जेल के चार अधिकारियों को भ्रष्टाचार में लिप्त पाये जाने पर उन्हें बर्खास्त किया गया है। ऐसे ही एक मामले में उन्होंने जांच के आदेश दिए है। उन्होंने कहा कि गुरूग्रंथ साहिब के अपमान की घटनाओं और सिखों पर पुलिस फायरिंग मामले में दोषी पुलिस अधिकारी गिरफ्तार किए गए है। इस मामले में केबिनेट मंत्री नवजोत सिद्धू ने गलत बयान देकर लोकसभा चुनाव में पार्टी को नुकसान पहुंचाया। उन्होंने कहा कि सिखों पर पुलिस फायरिंग के मामले में तत्कालीन मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल दोषी है। उन्होंने ऐसी हालत में दोषी पुलिस अफसरों पर एफआईआर दर्ज नहीं करवाई।