स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

एक दिन के लिए डीसी बनी अनमोल... दे डाले ये निर्देश

arun Kumar

Publish: Sep 14, 2019 00:02 AM | Updated: Sep 14, 2019 00:02 AM

Chandigarh Punjab

Firojpur: आज मैं इस जिले की डीसी (deputy commissioner-DC) हूं सभी अधिकारी वैसा ही करेंगे जैसा मैं कहूंगी। जी हां...! यह शब्द हैं अनमोल (Anmol) के जो लोकोमोटो बीमारी से पीडि़त है।

फिरोजपुर: आज मैं इस जिले की डीसी हूं सभी अधिकारी वैसा ही करेंगे जैसा मैं कहूंगी। जी हां...! यह शब्द हैं अनमोल के जो लोकोमोटो बीमारी से पीडि़त है। अनमोल का सपना साकार करने को उसे ऑफिशियली एक दिन का जिला उपायुक्त (डीसी) बनाया गया। सुबह बच्ची को घर से लाने के लिए गाड़ी भेजी गई और डीसी ऑफिस में भव्य स्वागत किया गया। अनमोल के इस सपने को पूरा करने में फिरोजपुर के डीसी चंद्र गैंद का योगदान सराहनीय है। 11वीं कक्षा की छात्रा अनमोल बेरी ने एक सामान्य डिप्टी कमिश्नर की भांति दिनभर ऑफिस और फील्ड में काम किया। फील्ड के दौरे में अनमोल कैंट स्थित विशेष बच्चों के लिए बनाए गए स्कूल में भी गईं, वहां उनसे मिलकर उन्हें मिल रही सुविधा और पेश आ रही समस्याओं के बारे में जाना। खास बात है कि अनमोल की हाइट सिर्फ 2.8 फीट है। यह लोकोमोटो नामक बीमारी से पीडि़त है। चार बार सर्जरी की जा चुकी है। जन्म के 20 दिन बाद ही अनमोल की पहली सर्जरी करवानी पड़ी थी। इसके अलावा दिल्ली के एम्स मं उसकी तीन बार सर्जरी करवाई गई है जा चुकी है।

मीडिया से रूबरू हुई और दिए जवाब

अनमोल फिरोजपुर प्रेस क्लब में मीडिया कर्मियों से रूबरू हुई और मीडिया के सवालों के जवाब दिए। अपनी भावी योजनाओं के बारे में भी अनमोल ने बताया। पंजाब सरकार की ओर से फिरोजपुर प्रेस क्लब को दी गई पांच लाख रुपए की ग्रांट भी उन्होंने प्रधान परमिंदर थिंद को सौंपी। अनमोल बेरी ने डीसी ऑफिस में जनहित से जुड़े मुद्दे उठाए। सबसे पहले अनमोल ने शहर की जर्जर सड़कों पर फिरोजपुर नगर कौंसिल के ईओ चरणजीत सिंह से जवाब मांगा, इस पर ईओ ने बताया गया कि शहर की सभी सड़कों की मरम्मत के लिए टेंडर हो चुके हैंं। जल्द ही मरम्मत का काम पूरा कर लिया जाएगा।

गोशाला और नशाबंदी पर भी दिए निर्देश

अनमोल ने शहर व हाईवे पर घूमते लावारिस पशुओं की समस्या को उठाया। प्रशासनिक अधिकारियों ने बताया कि सरकारी गोशाला के निर्माण के लिए पैसे आ गए हैं। इस पर जल्द ही काम शुरु हो जाएगा। इसके बाद एक दिन की डीसी ने युवाओं के नशे की लत में डूबने के बारे में चिंता व्यक्त करते हुए सेहत विभाग से कहा है कि हमें नशा छुड़ाओं केंद्र में आने वाले ऐसे नौजवानों की विशेष रूप से देखभाल करनी चाहिए, ताकि वह नशा छोड़कर जिम्मेदार नागरिक बन सकें। इसके अलावा शहर को प्रदूषण फ्री बनाने के लिए कौंसिल से पॉलीथिन पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाए जाने की बात भी की गई।

कैसे चर्चा में आई अनमोल

दरअसल युवाओं को प्रेरित करने के लिए राज रत्न पब्लिक स्कूल में पहुंचे डीसी की नजर अनमोल पर पड़ी थी। डीसी ने बच्ची को स्टेज पर बुलाकर बात भी की थीइस दौरान बच्ची से पूछा कि बड़े होकर क्या बनना चाहती है तो अनमोल ने बताया कि आईएएस अफसर बनना चाहती है। अनमोल आठवीं तक टॉपर भी रही है और दसवीं कक्षा में 85 फीसद अंकों के साथ पास हुई है। वर्ष 2014 में जन्मी अनमोल के एक पैर की एड़ी नहीं है। वह पहली कक्षा से लेकर दसवीं कक्षा तक टॉपर रही है।