स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

...आखिर ऐसा क्या हुआ कि खौल गया खून

Satyendra Porwal

Publish: Aug 26, 2019 19:08 PM | Updated: Aug 26, 2019 19:08 PM

Chandigarh Punjab

राहत सामग्री बांटने को लेकर दो गुटों में झड़प (firing )। चल गई गोलियां, आधा दर्जन लोग जख्मी।

(कपूरथला). बाढ़ से प्रभावित पंजाब के कई जिलों में हालात इतने खराब हो गए थे कि लोगों के पास राशन भी नहीं था। ऐसे में बाढ़ प्रभावितों (relief to flood affected people) को तुरन्त राहत पहुंचाने के लिए प्रशासन की ओर से राशन सामग्री भेजने का दौर चल रहा है। ऐसी ही राहत सामग्री से भरी ट्राली जब पंजाब के कपूरथला जिले के ग्रामीण इलाकों में पहुंची तो सामग्री लेने के लिए भीड़ जुट गई। जिस गांव में राहत सामग्री पहुंची वहां अन्य गांव के लोग भी आ गए। फिर उसके बाद अचानक ऐसा क्या हुआ कि गोली चल गई और भगदड़ मच गई। पत्रिका की विशेष रिपोर्ट-

राशन बांटने आई थी ट्राली
कपूरथला स्थित सुल्तानपुर लोधी के गांव शेखमांगा में रविवार देर शाम बाढ़ प्रभावित लोगों को राशन सामग्री की ट्राली राशन बांटने आई थी। जब गांव के पूर्व सरपंच गुरमेज सिंह की ओर से राशन बांटना शुरू किया गया तो उस समय उसका गांव के दूसरे गुट से विवाद हो गया, जो एक विशेष समुदाय से संबंधित हैं। डीएसपी सरवनसिंह बल ने बताया कि विवाद की खबर किसी ने पूर्व सरपंच गुरमेज के पारिवारिक सदस्यों को दी।

आते ही फायरिंग की शुरू
जैसे ही गुरमेज के परिजन वहां पहुंचे, उन्होंने आते ही फायरिंग (firing ) शुरू कर दी। इसमें दूसरे गुट के छह लोग कुलवंतसिंह, गुरमीतसिंह, रतनसिंह, हरजीतसिंह, जोगिंदरसिंह निवासी शेखमांगा व एक अन्य जख्मी हो गए। उन्हें सिविल अस्पताल सुल्तानपुर लोधी में भर्ती कराया गया है। दो की हालत गंभीर है। टकराव की सूचना मिलते ही एसपी तेजबीर सिंह हुंदल, डीएसपी सरवनसिंह, एसएचओ सरबजीत सिंह भारी पुलिस बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और मामले की जांच शुरू की।

किसी बात को लेकर थी रंजिश
गौरतलब है कि दोनों गुटों में पहले भी किसी बात को लेकर रंजिश चल रही थी। इसे विवाद की वजह माना जा रहा है। पुलिस ने घायलों के बयान कलमबद्ध किए हैं। इसके आधार पर मामला दर्ज किया जाएगा। उन्होंने दावा किया कि जल्द ही आरोपी पुलिस की हिरासत में होंगे। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार विवाद जातिसूचक शब्द बोलने पर हुआ है।