स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नशे ने जिंदगी को जंजीरों में जकड़ लिया और फिर...

arun Kumar

Publish: Aug 28, 2019 00:06 AM | Updated: Aug 28, 2019 00:06 AM

Chandigarh Punjab

Drunk: नशे के डंक ने पंजाब की जवानी बर्बाद कर दी। जवान बच्चों (Youth) को नकारा और बेबस देख मां-बाप का खून सूख रहा है मगर क्या करें... वे भी बेबस हैं। बात इतनी ही नहीं... नशे के लिए पैसे न मिलने से आत्महत्या करते युवा मां-बाप की जिंदगी में जो सन्नाटा या सूनापन छोड़ जाते हैं उससे कई परिवार टूट गए मगर गम कम न हुए....।

अमृतसर/ मोगा : नशे के डंक ने पंजाब की जवानी बर्बाद कर दी। यहां हौंसलों से पस्त युवा इस कदर नशे के आदी हो चुके हैं कि उन्हें न तो अपनी चिंता है ना ही अपने अपनों की। जवान बच्चों को नकारा और बेबस देख मां-बाप का खून सूख रहा है मगर क्या करें... वे भी बेबस हैं। बात इतनी ही नहीं... नशे के लिए पैसे न मिलने से आत्महत्या करते युवा मां-बाप की जिंदगी में जो सन्नाटा या सूनापन छोड़ जाते हैं उससे कई परिवार टूट गए मगर गम कम न हुए....। नशे के आदी पुरुष ही नहीं, युवतियां भी इस दलदल में फंस कर जिंदगी को बर्बाद कर रही हैं। नशा मुक्ति केंद्र की दवाइयां भी इनपर असर नहीं करती हैं। बाहर की दवाइयां इतनी महंगी हैं कि इलाज मुश्किल है। ऐसे में तिल तिल अपने बच्चों को घुटते देख खुद मां-बाप घ ुट रहे हैं।

कबड्डी खिलाड़ी ने कर ली आत्महत्या

 

नशे ने जिंदगी को जंजीरों में जकड़ लिया और फिर...

मोगा के एक कबड्डी खिलाड़ी ने नशे के लिए पैसा न मिलने पर आत्महत्या कर ली। उसके पिता ने बताया कि जगतार सिंह की चाची सुबह 6 बजे भतीजे को उठाने व चाय देने उसके कमरे में पहुंची तो देखा कि जगतार ने कपड़े का फंदा बनाकर आत्महत्या कर ली है। रविवार को जगतार सिंह ने नशा करने के लिए मां अमरजीत से रुपए मांगे तो हमने मना कर दिया। रुपए न मिलने पर मारपीट की और हमें घर से निकाल दिया। इसके बाद रात 12 बजे वे बेटी के घर चला गया। इसके बाद जगतार ने घर के बर्तन तोडऩे शुरू कर दिए तथा सामान को आग लगा दी। बाद में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। यदि हमें पता होता तो कि वह आत्महत्या कर लेगा तो हम कहीं न जाते।

मां ने जंजीरों में जकड़ दी बेटी की जिंदगी

 

नशे ने जिंदगी को जंजीरों में जकड़ लिया और फिर...

नशा करते की आदी एक बेटी को मां ने जंजीरों से बांध दिया। यह घटना अमृतसर की है, मां ने बेटी को पिछले एक हफ्ते जंजीरों में बांधकर रखा है। नशे के दलदल में फंसी बेटी को बचाने के लिए एक मां ने अपने कलेजे पर पत्थर रख ऐसा किया। बेटी नशे के लिए छटपटाती है, लेकिन बेबस मां जंजीरों को नहीं खोल पाती। अमृतसर की एक कॉलोनी के फ्लैट में रहने वाली 25 वर्षीय युवती नशे की आदी है। छह बहनों में सबसे छोटी इस युवती को अब परिवार वाले नशा छुड़ाओ केंद्र से लाई गई दवा को ही नशे की गोली बता कर खिला रहे हैं। किसी ने इसकी सूचना पुलिस को दी तो मां ने पूरा हाल बताया। कहा- बेटी को पढ़ाने की कोशिश की, पर पांचवीं के बाद उसका मन न लगा। उसे जंजीरों में बांधना मजबूरी है। वो किसी भी समय घर से निकल जाती है और नशा करके ही लौटती है। सिर से पिता का साया उठने के बाद यही तीघर का खर्च चलाती थी मगर नशे ने सब खत्म कर दिया।