स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बेटियों ने सड़क पर क्लास लगा किया समाधान... सच में बदल रहा है हिंदुस्तान

arun Kumar

Publish: Sep 01, 2019 23:50 PM | Updated: Sep 01, 2019 23:50 PM

Chandigarh Punjab

Rewari: सच में हिंदुस्तान (Hindustan) बदल रहा है...! ऐसा पहली बार देखने को मिला जब स्कूल में अध्यापकों (Teachers) की नियुक्ति में देरी को को लेकर छात्राओं Girl students ने बीच सड़क पर क्लास (class) लगा दी और शुरू कर दी पढ़ाई। सच में अब बदल रहा है हिंदुस्तान !!!

- स्कूल में अध्यापकों की नियुक्ति को लेकर प्रदर्शन
- झुका प्रशासन, अध्यापकों की नियुक्त का आश्वासन
रेवाड़ी.
सच में हिंदुस्तान बदल रहा है...! ऐसा पहली बार देखने को मिला जब स्कूल में अध्यापकों की नियुक्ति में देरी को लेकर छात्राओं ने बीच सड़क पर क्लास लगा दी और शुरू कर दी पढ़ाई। कुछ ही देर में पूरा शहर जुट गया। कोई छात्राओं के हौंसले की बात तो कोई कह रहा था- अब हमारी बेटियां खुद कर लेंगी हर समस्या का समाधान...! सच में अब बदल रहा है हिंदुस्तान !!! कुछ ही देर में आला अधिकारी दौड़े आए और छात्राओं के स्कूल में अध्यापकों की नियुक्ति का लिखित आश्वासन दिया।

आखिर क्यों सड़कों पर उतरीं बेटियां?

 

बेटियों ने सड़क पर क्लास लगा किया समाधान... सच में बदल रहा है हिंदुस्तान

रेवाड़ी के सेक्टर 4 में राजकीय कन्या विद्यालय में हिंदी और संस्कृत के अध्यापकों की नियुक्ति नहीं होने व स्कूल को सरकुलर रोड स्थित पुराने स्कूल में शिफ्ट करने की बात पर छात्राएं भड़क गईं। उनका कहना था कि स्कूल में हिंदी और संस्कृत के अध्यापकों की नियुक्ति क्यों नहीं की जा रही है। इससे उनकी पढ़ाई चौपट हो रही है। कई महीने के बाद भी जब स्कूल में अध्यापक नियुक्त नहीं हुए तो उन्होंने सड़क पर क्लास लगा दी और वहीं पढ़ाई करने लगीं।

रंग लाया संघर्ष, आला अफसर पहुंचे

शहर के आला अफसरों को जैसे ही पता चला वो भागे चले आए। स्कूल और सड़क पर धरना-प्रदर्शन कर रही छात्राओं के बीच तहसीलदार व शिक्षा विभाग के अधिकारी पहुंचे। अधिकारियों ने मौके पर ही लिखित आश्वासन दिया कि आज से ही दोनों विषयों के अध्यापकों की नियुक्ति स्कूल में कर दी जाएगी। उसके बाद छात्राओं ने अपना आंदोलन समाप्त कर दिया। इससे एक दिन पहले सेक्टर 4 स्थित राजकीय कन्या विद्यालय की सैकडों छात्राएं जिला शिक्षा अधिकारी के कार्यालय पहुंची थीं।

मीरपुर में अध्यापक के तबादले पर प्रदर्शन

शुक्रवार को गांव मीरपुर की छात्राओं ने स्कूल के गेट पर तीसरे दिन भी धरना दिया। छात्राओं की मांग थी कि उनके स्कूल में पढ़ाने वाले गणित के अध्यापक के तबादले को रोका जाए। सूचना के बाद शिक्षा विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंचे और आश्वासन दिया कि इस दिशा में उच्च अधिकारी से बात चल रही है। जल्द ही समाधान हो जाएगा।

तीन गांवों में छात्राओं ने की थी मांगें

 

बेटियों ने सड़क पर क्लास लगा किया समाधान... सच में बदल रहा है हिंदुस्तान

सीहा झाबुआ के बाद मीरपुर के स्कूल में अध्यापक के तबादले के विरोध की चिंगारी गांव से ही उठी थी। यहां एक ही स्कूल के 11 अध्यापकों व प्राचार्य का तबादला अचानक कर दिया गया। इसके विरोध में तीन दिन पहले छात्राओं ने स्कूल पर ताला जड़ते हुए सड़क तक जाम कर दी थी। गुरुवार को गांव झाबुआ की छात्राओं ने अपने अध्यापक का तबादला रुकवाने के लिए धरना दिया था। बाद में ग्रामीणों ने उन्हें समझाकर वापस स्कूल भेज दिया था जबकि खुद शिक्षा विभाग के अधिकारियों से मिल थे।