स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बर्निंग ट्रेन बनी तेलंगाना एक्सप्रेस, ऐसे बची यात्रियों की जान...

arun Kumar

Publish: Aug 29, 2019 21:38 PM | Updated: Aug 29, 2019 21:43 PM

Chandigarh Punjab

Burning train: हैदराबाद (Hydrabad) से दिल्ली (Delhi) तेलंगाना एक्सप्रेस (telangna express ) यात्री गाड़ी के कुछ डिब्बे आग की लपटों में घिर गए (Burning train)। आग देख यात्रियों में अफरातफरी मच गई। यात्री जान बचाने को कूदने की तैयारी में थे कि फरीदाबाद के निकट टेन जीआरपी (Train) तथा ग्रामीणों ने यात्रियों किसी तरह बाहर निकाला। फरीदाबाद (Faridabad) व आसपास से पहुंची फायर ब्रिगेड की गाडिय़ों ने चार घंटे में ट्रेन की लपटों को शांत किया।

जलते डिब्बों को काटकर किया अलग
चार घंटे बाद बहाल हुआ यातायात

चंडीगढ़

हैदराबाद टू दिल्ली तेलंगाना एक्सप्रेस यात्री गाड़ी के कुछ डिब्बे अचानक आग की लपटों में घिर गए। यात्री जान बचाने को कूदने की तैयारी में थे कि फरीदाबाद के निकट टेन जीआरपी तथा ग्रामीणों ने यात्रियों किसी तरह बाहर निकाला। फरीदाबाद व आसपास से पहुंची फायर ब्रिगेड की गाडिय़ों ने चार घंटे में ट्रेन की लपटों को शांत किया। इसके बाद अग्निकांड की चपेट में आए डिब्बों को काटकर अलग किया गया और गाड़ी को आगे के लिए रवाना किया गया। आग के कारणों का पता लगाने के लिए रेलवे ने जांच के आदेश जारी कर दिए हैं।

तेलंगाना एक्सप्रेस कैसे बनी बर्निंग ट्रेन

 

बर्निंग टे्रन बनी तेलंगाना एक्सप्रेस, ऐसे बची यात्रियों की जान...

सामान्य की भांति बुधवार शाम तेलंगाना एक्सप्रेस हैदराबाद से दिल्ली के लिए रवाना हुई थी। प्रत्यक्षदर्शियों ने बाताया कि मथुरा से चलनेेे के बाद ट्रेन में आग से जलने की महक आने लगी थी। यात्रियों ने पैंट्री में तैनात कर्मचारियों को सूचित भी किया, लेकिन किसी ने गंभीरता से नहीं लिया। होशंगाबाद से दिल्ली जा रहे यात्री दिनेश कुमार त्रिवेदी ने दावा किया कि यह आग पैंट्री से शुरू हुई और एसी कोच बी-1 तक पहुंच गई। ट्रेन जब पृथला के गांव जाजरू फाटक के पास पहुंची तो चालक ने ट्रेन को रोक दिया। आग की सूचना मिलते ही ट्रेन में सवार यात्रियों में भगदड़ मच गई। घटना की सूचना मिलते ही जीआरपी के जवानों तथा ग्रामीणों ने मौके पर पहुंचकर ट्रेन में सवार यात्रियों को सकुशल बाहर निकाला।

किसी तरह आग पर पाया काबू

 

बर्निंग टे्रन बनी तेलंगाना एक्सप्रेस, ऐसे बची यात्रियों की जान...

पुलिस की सूचना पर फायर ब्रिगेड की गाडिय़ां मौके पर पहुंची और आग पर काबू पाया। एक बार आग कंट्रोल किए जाने के बाद करीब दस बजे फिर से एक डिब्बे से आग की लपटें उठनी शुरू हुई तो फायर ब्रिगेड ने दोबारा आग की चपेट में आए डिब्बों के आसपास के डिब्बों में भी जांच की। आग लगने के कारण सुबह 7.40 बजे ट्रेन को गांव में रोका गया और करीब 11 बजे फायर ब्रिगेड के अधिकारियों ने प्रभावित डिब्बों का दौरा करके के बाद सबकुछ सामान्य होने की रिपोर्ट दी। दोपहर करीब 12 बजे अग्निकांड का शिकार हुए डिब्बों को काटकर अलग किया गया। इसके बाद मथुरा-दिल्ली ट्रैक पर यातायात सामान्य हुआ।

चालक तथा रेलवे कर्मियों के बयान पर कार्रवाई शुरू

रेलवे अधिकारियों की एक टीम ने भी घटनास्थल का दौरा करके जांच शुरू कर दी है। जीआरपी फरीदाबाद थाना प्रभारी एमएस डबास की माने तो सुबह उन्हें ट्रेन में आग लगने की सूचना मिलते ही जीआरपी के तमाम कर्मचारी और आसपास के जिला पुलिस के थानों की पुलिस राहत कार्यों में जुट गई थी। इस बारे में जीआरपी द्वारा ट्रेन के चालक तथा रेलवे कर्मियों के बयान पर अगली कार्रवाई शुरू कर दी गई है।