स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आईएसआई को मदद पहुंचाने में गिरफ्तार राशिद अहमद के फेसबुक पोस्ट से खुला यह राज, सकते में परिजन

Akhilesh Kumar Tripathi

Publish: Jan 20, 2020 21:21 PM | Updated: Jan 20, 2020 21:24 PM

Chandauli

राशिद दो बार जा चुका है पाकिस्तान, भारतीय सिम के जरिये पाकिस्तान से संपर्क

चंदौली. भारतीय सेना से जुड़ी जानकारी पाकिस्तान के आईएसआई को मदद पहुंचाने के आरोप में गिरफ्तार हुए युवक राशिद अहमद मुगलसराय कोतवाली के चौरहट गांव अपने नाना जब्बार (70) के यहां अपनी मां शहजादी के साथ रहता था। राशीद की मां और नाना के अनुसार राशिद दो बार पाकिस्तान अपनी मौसी हसीना की बेटी की शादी में शामिल होने के लिए मां और नाना के साथ पाकिस्तान जा चुका है ।

[MORE_ADVERTISE1]rashid ahmad [MORE_ADVERTISE2]

पहली बार वह अगस्त 2017 में पाकिस्तान गया था, उस दौरान वह एक महीने तक वहां रहा था। दूसरी बार दिसंबर 2018 में मौसी की बेटी की शादी में शामिल होने पाकिस्तान गया था और उस दौरान दो माह वहीं रहा था। राशिद ग्लोसाईन बोर्ड बनाने का काम वाराणसी के नौरंगाबाद किसी दानिश के लिए काम करता था। राशिद दानिश के कहने पर ही कानपुर , इलाहाबाद और लखनऊ तक जा चुका है। दरअसल रशीद के नाना जब्बार मूल रूप से वाराणसी के प्रह्ललाद घाट क्षेत्र के रहने वाले है । बीस वर्ष पूर्व वह चौरहट में आकर बसे थे। उनके दो बेटे और पांच बेटियां है | बेटे शमशीर और आलमगीर यहीं चौरहट में रहते है । वहीं सबसे बड़ी बेटी हसीना पाकिस्तान के करांची में अपने परिवार के साथ रहती है। दूसरे नंबर की बेटी शहजादी पति से तलाक के बाद बेटे रशीद के साथ यहीं रह रही है। तीसरी नंबर की बेटी शबनम और पांचवें नंबर की बेटी शबीना की शादी मारवाड़ के पाली में हुई है। वहीं चौथे नंबर की बेटी शानू पास के गांव में रहती है। घटना के बाद से पूरा परिवार सकते में है । परिवार वालों ने बताया कि कभी कभी पाकिस्तान से उसकी मौसी का फ़ोन आता था और वहीं उससे बात करता था।

[MORE_ADVERTISE3]

वहीं पुलिस अधीक्षक हेमंत कुटियाल न बताया की मामले में हम अपने स्तर से जांच कर रहे है | आरोपी से जुड़ा कोई और तार तो यहां नहीं है, हर पहलू पर जांच चल रही है। वहीं राशिद के बारे में सोशल मीडिया में छानबीन की गयी तो वो पूरी तरह से हिंदुस्तान विरोधी साबित हुए, उसका पाकिस्तान के पक्ष में डाले गए पोस्ट व हिंन्दुस्तान के विरुद्ध पोस्ट भी चौकाने वाले थे। सूत्र बताते हैं कि पाकिस्तान के आईएसआई में उससे भारतीय दो सिम मंगवाए थे। बाद में उस पर वाट्सएप्प एक्टिव कर उसी पर सेना से जुड़ी जानकारी भेज रहा था।

By- Santosh Jaiswal