स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

फेसबुक प्रेमिका निकली तीन बच्चों की मां, मुलाकात करने पहुंचा प्रेमी तो हुआ कुछ ऐसा कि...

Mohd Rafatuddin Faridi

Publish: Nov 10, 2019 08:47 AM | Updated: Nov 10, 2019 08:48 AM

Chandauli

फेसबुक पर प्यार करने में पड़ गए लेने के देने।

चंदौली . फेसबुक पर पहले दोस्ती और फिर प्यार में पड़ जाने के बाद युवक ने कई ख्वाब देखे थे। अपनी मोहब्बत को परवान चढ़ाने के लिये वह 850 किलोमीटर का सफर करने में भी नहीं झिझका। उसके गांव तक पहुंच गया। सबकुछ प्लान के मुताबिक चल रहा था। अब युवक और उसकी प्रेमिका के मिलन में महज कुछ मिनट का ही फासला था, लेकिन तब तक उसके साथ कुछ ऐसा हुआ जो उसने खुद कभी नहीं सोचा था।

दिल्ली के युवक ने सोचा भी नहीं था कि फेसबुक पर दोस्ती करने का शौक उसके लिये मुसीबत बन जाएगा। उसने दोस्ती की फिर प्यार हो गया और फिर शुरू हो गयी प्यार की पींगें। कई मामलों में फेसबुक पर हुआ प्यार अंजाम तक पहुंचा है और शहनाइयां भी बजी हैं। पर इस मामले में हैप्पी एंडिंग के ठीक पहले ही टि्वस्ट आ गया।

दिल्ली के रहने वाले गौरव कुमार को फेसबुक पर चंदौली सदर कोतवाली अन्तर्गत गांव की रहने वाली एक महिला से फेसबुक पर दो साल पहले दोस्ती हुई। दोनों घंटों एफबी पर चैटिंग कर अपने दिल की बात एक दूसरे से शेयर करते। ये बातें इतनी बढ़ीं कि दोनों के जज्बात एक-दूसरे से जुड़ गए और उनमें मोहब्बत हो गयी। लेकिन प्यार-मोहब्बत हो जाए तो फिर जी कहां मानता है। युवक प्रेमिका से शादी का दबाव डालने लगा। आखिरकार महिला ने भी हां कर ही दी। उसका इशारा पाते ही वह दिल्ली से ट्रेन पकड़कर 850 किलोमीटर दूर चंदौली आ गया। शनिवार की सुबह प्रेमिका के बताए पते पर उसके गांव पहुंच गया।

उसे लगा कि वह अपनी मंजिल से चंद पल ही दूर है, लेकिन होनी में कुछ और ही लिखा था। गांव पहुंचने पर पता चला कि उसकी प्रेमिका न सिर्फ शादी-शुदा है बल्कि वह तीन बच्चों की मां भी है। इसी बीच महिला के घर वालों को इसके बारे में भनक लग गयी। फिर क्या था, युवक पकड़ा गया और उसकी जमकर पिटायी हुई। पीटाई के बाद उसे पुलिस को सौंप दिया गया। पुलिस युवक से कोतवाली में पूछताछ कर रही है। कोतवाल लक्ष्मण पर्वत का कहना है कि अगर महिला के घरवालो की ओर से तहरीर मिली तो मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।

By Santosh Jaiswal

[MORE_ADVERTISE1]