स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

भाजपा का संगठन चुनाव हुआ दिलचस्प, मतदाताओं के बराबर पहुंचे प्रत्याशी

Mohd Rafatuddin Faridi

Publish: Nov 21, 2019 12:13 PM | Updated: Nov 21, 2019 12:13 PM

Chandauli

चंदौली में जितने मतदाता उतने प्रत्याशियों ने किया नामांकन।

निर्वाचन अधिकारी भी दावेदारों की तादादसे रह गए हैरान।

चंदौली . भारतीय जनता पार्टी के जिला संगठनात्मक चुनाव में उस समय विकट स्थिति पैदा हो गयी, जब जिलाध्यक्ष पद के लिये दनादन दावेदार सामने आने लगे। हालत यह हो गयी कि जिलाध्यक्ष बनने के लिये दावेदारों की तादाद मतदाताओं के बराबर पहुंच गयी। निर्वाचन अधिकारी यह देखकर चकित रह गए। अपने नामों की दावेदारी कर आवेदन करने के लिये जिला कार्यालय पर दावेदार समर्थकों के साथ पहुंचे। मतदाताओं के बराबर दावेदारों के आवेदन आने के बाद तय किया गया कि नामांकन पत्रों की जांच कर प्रदेश कमेटी के पास भेजा जाएगा।

10 मंडलों के अध्यक्ष और 10 जिला प्रतिनिधि मिलाकर जिले में जिलाध्यक्ष चुनने के लिये कुल 10 वोट यानि कि मतदाता हैं। इन्हीं को जिलाध्यक्ष के चुनाव में वोट डालना है। पर बुधवार को जब जिलाध्यक्ष पदके लिये नामांकन शुरू हुआ तो किसी को इस बात का अंदाजा नहीं था कि हर कोई इस कुर्सी का सपना पाले है। कयास लगाए जा रहे थे कि उम्मीदवारों की संख्या चार से पांच तक जा सकती है। पर जब नामांकन के लिये दावेदार पहुंचने लगे तो प्रत्याशियों और उनके समर्थकों की भीड़ जिला कार्यालय पर जमा हो गयी। जिला कार्यालय के पास हाइवे पर लग्जरी गाड़ियों की कतारें दिखने लगीं।

एक के बाद एक कुल 20 नामांकन दाखिल हो गए तो चुनाव अधिकारियों का भी माथा ठनक गया। दावेदारी करने वालों में रमेश जायसवाल, शिव तपस्या पासवान, उदय प्रताप सिंह पप्पू, राम सुंदर चौहान, शिव शंकर पटेल, सत्यप्रकाश गुप्ता, रामजी तिवारी, काशीनाथ सिंह, अभिमन्यू सिंह, अनिल तिवारी, सुजीत जायसवाल, सुभाष सोनकर, अनिल कुमार तिवारी, प्रमोद चौबे, राजेश सिंह, जैनेंद्रधर दुबे, सुनील श्रीवास्तव, देवेंद्र प्रताप सिंह, राकेश कुमार सिंह व डा. शंभूनाथ के नाम शामिल हैं।

जिलाध्यक्ष पद के लिये फैसला 23 से 25 नवंबर के बीच होगा। निर्वाचन अधिकारियों के मुताबिक पहले दाखिल किये गए नामांकन पत्रों की स्क्रूटनी होगी उसके बाद ओपिनियन लिया लियाजाएगा। जांच कर रिपोर्ट स्टेट कमेटी को भेज दी जाएगी। उधर मतदाताओं के बराबर नामांकन हो जाने के बाद न सिर्फ भाजपा में बल्कि राजनीतिक गलियारों में भी यह चर्चा का विषय बना हुआ है।

By Santosh Jaiswal

[MORE_ADVERTISE1]