स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कंगना ने कहा-..तो बिल्कुल भी सहन नहीं करूंगी, अपने विवादों पर दिया ऐसा बयान

Mahendra Yadav

Publish: Sep 15, 2019 14:34 PM | Updated: Sep 15, 2019 14:34 PM

Bollywood

Kangana Ranaut ने कहा, 'जब भी मैंने इसे लेकर बात की है और नाम उजागर किए हैं, ये सभी बातें मेरे कॅरियर के खिलाफ गईं।'

बॉलीवुड में नेपोटिज्म (भाई-भतीजावाद) के खिलाफ आवाज बुलंद करने वाली अभिनेत्री कंगना रनौत (Kangana Ranaut) का मानना है कि जब तक उनकी नीयत सही है, तब तक उन्हें अपनी कही गई बातों का बुरा नहीं लगता। कंगना ने कहा,'मैं जब भी किसी बुराई के खिलाफ कुछ कहती हूं, तो मैं हमेशा इस बात को देखती हूं कि मेरा इरादा क्या है।'


सभी बातें मेरे कॅरियर के खिलाफ गईं
साथ ही उन्होंने कहा, 'आलोचना मुझे कड़वा नहीं बनाती है। नेपोटिज्म, यौन शोषण, असमानता प्रेरित भुगतान और सभी प्रकार का बुरा व्यवहार जो कि एक बाहरी व्यक्ति को बॉलीवुड में सहना पड़ता है, जब भी मैंने इसे लेकर बात की है और नाम उजागर किए हैं, ये सभी बातें मेरे कॅरियर के खिलाफ गईं। लेकिन कोई भी इन बातों को नजरअंदाज नहीं कर सकता।'

 

कंगना ने कहा-अगर कोई मजाक बनाएगा तो सहन नहीं करूंगी, अपने विवादों पर दिया ऐसा बायान

बड़े लक्ष्य मायने रखते हैं
बता दें कि कंगना उस वक्त विवादों में घिर गई थीं, जब उन्होंने मशहूर फिल्म निर्माता करण जौहर को उन्हीं के टेलीविजन चैट शो में कहा था कि वे ही 'नेपोटिज्म के ध्वजवाहक हैं। उन्होंने कहा, 'आज लोग नेपोटिज्म के बारे में बात कर रहे हैं। इस बारे में उनकी अपनी राय है। लेकिन क्या पहले कभी किसी ने इस बारे में बात की थी? मेरे लिए बड़े लक्ष्य मायने रखते हैं। जिन मुद्दों को सालों से दबाकर रखा गया था लोग अब उस बारे में बात कर रहे हैं।'

कंगना ने कहा-अगर कोई मजाक बनाएगा तो सहन नहीं करूंगी, अपने विवादों पर दिया ऐसा बायान

आलोचना दिल पर नहीं लेती
फिल्म 'जजमेंटल है क्या' के एक प्रमोशन इवेंट के दौरान एक पत्रकार से उनकी कहासुनी हो गई थी, और इसको लेकर भी उनकी काफी आलोचना हुई थी। उन्होंने कहा कि मीडिया ने उनके किए गए कई अच्छे कार्यों की सराहना भी की है। उन्होंने कहा कि वह आलोचना को दिल पर लगाकर नहीं बैठतीं।

दिल में किसी के लिए कोई बात नहीं
कंगना ने कहा, 'एक कलाकार के रूप में काम को लेकर मैं आलोचना सुनने के लिए तैयार रहती हूं। इसे लेकर मेरे दिल में किसी के लिए कोई बात नहीं है। लेकिन मैंने समाज के लिए कई कार्य किए हैं, जैसे पौधे लगाना, पर्यावरण को बचाना, नदियों के बारे में बात करना, प्लास्टिक के इस्तेमाल के खिलाफ बात करना। और जब कोई इन बातों का मजाक बनाएगा तो इसे मैं बिल्कुल सहन नहीं करूंगी।'