स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

61 साल तक बॉलीवुड पर राज करने वाले इस कॉमेडियन की ऐसी हुई हालत, फोटो देख पहचानना भी मुश्किल

Vivhav Shukla

Publish: Oct 22, 2019 20:40 PM | Updated: Oct 22, 2019 20:40 PM

Bollywood

अब की तस्वीरों में पहचानना भी मुश्किल

नई दिल्ली। फिल्म इंडस्ट्री में कॉमेडियन के रूप में पहचाने जाने वाले एक्टर जगदीप जाफ़री 80 साल के हो चुके हैं। अपने हाव-भाव से लोगों को हंसाने वाले जगदीप ने कई बेहतरीन फिल्मों में काम किया है। उनके इसी योगदान के चलते उन्हें आइफा अवॉर्ड में लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड से नवाजा गया।इस अवार्ड शो में वे अपने  दोनों बेटों जावेद और नावेद के साथ व्हील चेयर पर आए थे। इस शो के दैरान आई तस्वीरों को देख आप शायद ही उन्हें पहचान पाए। 

jagdeep_actor_iifa_award.jpg

नई दिल्ली। फिल्म इंडस्ट्री में कॉमेडियन के रूप में पहचाने जाने वाले एक्टर जगदीप जाफ़री 80 साल के हो चुके हैं। अपने हाव-भाव से लोगों को हंसाने वाले जगदीप ने कई बेहतरीन फिल्मों में काम किया है। उनके इसी योगदान के चलते उन्हें आइफा अवॉर्ड में लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड से नवाजा गया।इस अवार्ड शो में वे अपने दोनों बेटों जावेद और नावेद के साथ व्हील चेयर पर आए थे। इस शो के दैरान आई तस्वीरों को देख आप शायद ही उन्हें पहचान पाए।

jagdeep_actor_iifa_award_1.jpg

जगदीप ने लगभग 61 साल तक बॉलीवुड पर एक कॉमेडियन बन कर राज किया है। लेकिन उ्रम के इस पड़ाव में वो काफी बदल गए हैं। वो अक्सर बिमार ही रहते हैं। पैरों से चला नहीं जाता तो व्हील चेयर की मदद से अपनी मंजील पर पहुंचते हैं। हाल ही में आई उनकी तस्वीरों में जगदीप बहुत बदले-बदले से नजर आ रहे हैं।

jagdeep_hero.jpg

जगदीप का असली नाम सइद इश्तियाक अहमद है। लेकिन नाम लंबा होने के चलते उन्होंने इसे जगदीप में बदल दिया। नाम तो बदल गया था लेकिन उन्होंने असली पहचान सूरमा भोपाली बन कर ही कमाई। जगदीप लोगों को अपने हाव भाव से ही हंसाया करते थे। जब पर्दे पर उनकी एंट्री होती थी तो पूरा सिनेमा-हाल तालियां बजने लगती थी। वो हीरो तो नहीं बन पाए लेकिन वो जिस फिल्म में होते थे उस फिल्म में हीरो की जरूरत समझ ही नहीं आती थी।

jagdeep_hero.jpg

जगदीप ने करीब 400 से भी ज्यादा फिल्मों में काम किया है। उन्होंने मच्छर इन पुराना मंदिर (1984), अंदाज अपना-अपना (1994) फिर वही रात, कुरबानी, शहनशाह, जैसी फिल्मों में काम कर चुके हैं। लेकिन साल 1975 में आयी फिल्म ‘शोले’ ने उन्हें एक अलग पहचान दिलायी। इस फिल्म के बाद से लोग उन्हें सूरमा भोपाली के नाम से जानने लगे। जगदीप ने फिल्म इंडस्ट्री में अपने करियर की शुरुआत 1951 में बी आर चोपड़ा की फिल्म 'अफसाना' से की थी। इस फिल्म में जगदीप ने बतौर बाल कलाकार काम किया था।