स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पाकिस्तान में था दिलीप कुमार का पुश्तैनी घर, सरकार की लापरवाही की वजह से ढह गया

Sunita Adhikari

Publish: Dec 11, 2019 13:55 PM | Updated: Dec 11, 2019 13:55 PM

Bollywood

  • Dilip Kumar Birthday Special: दिलीप कुमार का आज 97वां जन्मदिन है

नई दिल्ली: ‘ट्रेजडी किंग’ के नाम से मशहूर बॉलीवुड अभिनेता दिलीप कुमार आज अपना 97वां मना रहे हैं। 11 दिसंबर 1922 को बॉलीवुड के ‘ट्रेजडी किंग’ का जन्म हुआ था। दिलीप कुमार का जन्म पेशावर पाकिस्तान में हुआ था। उनका असली नाम भी दिलीप नहीं बल्कि मोहम्मद यूसुफ खान है। दिलीप कुमार का पुश्तैनी घर पाकिस्तान में हुआ करता था, लेकिन पाकिस्तान सरकार की लापरवाही के कारण उनका घर ढह गया।

यह भी पढ़ें: श्रीदेवी के निधन के बाद उनको नेशनल अवॉर्ड देने के खिलाफ था ये डायरेक्टर, बताई थी ये बड़ी वजह

[MORE_ADVERTISE1]

दिलीप कुमार के घर को पाकिस्तान ( Pakistan) के तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने जुलाई 2013 में राष्ट्रीय विरासत भी घोषित कर दिया था। पाकिस्तान की सरकार ने दिलीप कुमार ( Dilip Kumar) के जर्जर घर की मरम्मत नहीं करवाई इसलिए उनका मकान गिर गया। जबकि पाकिस्तानी सरकार को इस घर की हालत के बारे में अच्छे से पता था, क्योंकि दिलीप कुमार के घर को लेकर खबरें काफी टाइम से आ रही थी कि उनका घर कभी भी गिर सकता है। दिलीप कुमार का घर पेशावर ( Peshawar) शहर में खुदाबाद मोहल्ले के किस्सा ख्वानी बाजार में था।

[MORE_ADVERTISE2]

दिलीप कुमार का यह पुश्तैनी घर 130 वर्ग मीटर में फैला था। मोहम्मद यूसुफ़ ख़ान उर्फ दिलीप कुमार का जन्म 11 दिसंबर 1922 को पेशावर के इसी घर में हुआ था। साल 1930 में 12 सदस्यों वाला ये परिवार पेशावर से सपनों की नगरी मुंबई में शिफ्ट हो गया। बताया जाता है पेशावर के इस घर में दिलीप कुमार के पिता दादा गुलाम सरवर द्वारा बनाया गया कबूतर खाना घर के गिरने तक मौजूद था। लेकिन ये घर काफी वक्त से वीरान पड़ा था। हालांकि दिलीप कुमार के भारत आने के बाद उनके पिता की बहन काफी दिनों तक इस मकान में रहीं थीं, लेकिन उनकी मौत के बाद घर खाली पड़ गया।

आपको बता दें कि जितना क्रेज दिलीप कुमार का भारत में है उतना ही क्रेज उनका पाकिस्तान के लोगों में भी है। पाकिस्तान सरकार ने 1998 में उन्हें अपना हाइएस्ट सिविलियन अवॉर्ड निशान-ए-इम्तियाज दिया था।

[MORE_ADVERTISE3]