स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

देवी के जसगीत गाते हुए सफाई में उतरे स्वयं सेवक, ग्रामीण भी हो लिए साथ

Jayant Kumar Singh

Publish: Nov 20, 2019 11:55 AM | Updated: Nov 20, 2019 11:55 AM

Bilaspur

सीयू के एनएसएस स्वयंसेवकों का एक दिवसीय शिविर

बिलासपुर। गुरु घासीदास विश्वविद्यालय (केन्द्रीय विश्वविद्यालय) की राष्ट्रीय सेवा योजना की इकाइयों के स्वयंसेवकों ने गोदग्राम तेंदूभाटा में दिनांक 16 नवंबर, 2019 को एक दिवसीय शिविर का आयोजन किया। इस शिविर में विश्वविद्यालय की कला विद्यापीठ एवं जीव विज्ञान विद्यापीठ की राष्ट्रीय सेवा योजना की इकाई के कुल 75 स्वयंसेवकों ने भागीदारी की। कार्यक्रम अधिकारी के रूप में डॉ. रमेश कुमार गोहे, डॉ मनीष कुमार त्रिपाठी एवं सहयोगी शिक्षिका के रूप में मोनिका वंदना किस्पोट्टा सम्मिलित हुए।
इस शिविर में एनएसएस स्वयंसेवकों ने गोद ग्राम तेंदूभाटा में स्वच्छता जागरूकता, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ आदि विषयों पर गीत गाकर, नारे लगाकर जागरूकता का संदेश दिया। स्कूल परिसर के हेंड पम्प के पास सफाई की एवं साथ ही राष्ट्रीय सेवा योजना के विभिन्न कार्यक्रमों से गांव के लोगों को परिचित कराया।
इसी दौरान निर्धारित बम्हनिन डोंगरी मंदिर स्थल के पहाड़ पर चढ़कर वहां के परिसर की साफ-सफाई करते हुए देवी जसगीत गाकर सांस्कृतिक कार्यक्रम भी किया। पूरे शिविर में स्थानीय ग्रामीणों ने सहयोग प्रदान किया। इस अवसर पर ग्राम के सरपंच श्री मोतीलाल पैकरा के द्वारा मार्गदर्शक के रूप में उपलब्ध कराये गये व्यक्ति के रूप में मंदिर परिसर में हमारे समूह के साथ दो जसगीत गाए एवं मंदिर परिसर का इतिहास बताया। इस शिविर के आयोजन के अनुमति प्रदान किये जाने हेतु विश्वविद्यालय की माननीय कुलपति महोदया प्रोफेसर अंजिला गुप्ता का विशेष रूप से धन्यवाद ज्ञापित किया गया।
दिनांक 16 नवंबर 2019 को स्वयंसेवक शिविर हेतु सुबह 10.00 बजे विश्वविद्यालय की दो बसों में सवार होकर ग्राम पहुंचे एवं सायं 5.30 बजे शिविर के सफलतापूर्वक समापन के पश्चात परिसर में वापस लौट आये।

[MORE_ADVERTISE1]