स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सुपेबेड़ा की हालत- खेती बाड़ी बेचकर लड़ रहे है जिंदगी की जंग, महिलाएं हो रहीं विधवा, बच्चे हो रहे अनाथ

Jayant Kumar Singh

Publish: Oct 21, 2019 11:06 AM | Updated: Oct 21, 2019 11:06 AM

Bilaspur

देवभोग अंचल के सुपेबेड़ा में कीडनी की बीमारी से हो रही मौतों को लेकर प्रदेश का माहौल गर्म हो गया है। ऐसे में जोगी कांग्रेस ने भी मोर्चा खोल दिया है।

बिलासपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) ने सुपेबेड़ा मामले में मोर्चा खोल दिया है। पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता भगवानू नायक ने देवभोग अंचल के सुपेबेड़ा में किडनी रोग से लोगों की मृत्यु एवं कई के पीडि़त होने पर गम्भीर चिंता एवं दु:ख व्यक्त करते हुए कहा सुपेबेड़ा में महिलाएं विधवा हो रही है, बच्चे अनाथ हो रहे हैं, किडनी रोग से पीडि़त कई लोग शारीरिक, मानसिक, आर्थिक रूप से परेशान होकर उचित इलाज के लिए अपनी खेती बाड़ी बेचकर भी जिंदगी और मौत से लड़ रहे हैं और बड़ी संख्या में लोग जान बचाने पलायन भी कर रहे है।

नायक ने कहा आर्टिकल 21 भारत का संविधान देश के प्रत्येक नागरिक के लिए न सिर्फ जीवन जीने का अधिकार बल्कि गरिमामयी जीवन जीने का अधिकार देता है। माननीय उच्चतम न्यायालय इस आर्टिकल का व्यापक रूप से व्याख्या किया है जिसमें सरकार का दायित्व है राज्य की जनता को मुलभूत सुविधाएं शुद्ध वायु, शुद्ध पानी, उचित ईलाज, साफ सफाई, रोजगार आदि उपलब्ध कराएं परन्तु 15 साल में जनता को दु:ख देने और 15 सत्ता का सुख भोगने वाली भाजपा सरकार ने सुपेबेड़ा में किडनी रोगियों के लिए डायलिसिस प्लांट लगाने की बात करती रही पर सुपेबेड़ा की जनता को साफ पानी पिलाने के लिए एक वाटर प्लान्ट नहीं लगा सकी। वहीं सुपेबेड़ा की इस गम्भीर समस्या पर राजनीति करने वाली कांग्रेस अब राज्यपाल को केंद्र सरकार को अवगत कराने की बात कर रही है।
भारत की आत्मा गांवों में बसती है
राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी जी ने कहा था कि भारत की आत्मा गांव में बसती है यदि गांव का विकास करेंगे तो भारत का विकास होगा। गाँधी जी की 150 वीं जयंती के अवसर पर भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दल गाँधी जी के नाम पर राजनीति कर रहे है पर गाँधी जी के विचारों से उनका कोई लेना देना नहीं है। केंद्र भाजपा और राज्य की कांग्रेस सरकार इस मामले पर कहीं भी गंभीर नहीं दिखाई दे रही है । भगवानू नायक ने कहा आज इन दोनों ही सरकारों को इस भयंकर संकट से सुपेबेड़ा की जनता को मुक्ति दिलाने के लिए ज्वाइंट ऑपरेशन चलाने की जरूरत है। लोकतंत्र में मंत्रिमंडल जनता के लिए उत्तरदायी होता है परंतु ऐसे समय में राजभवन से राज्यपाल ने सुपेबेड़ा की सुध लेते हुए वहां का दौरा करने तथा इस सम्बंध में केंद्र सरकार को भी अवगत कराने की बात कही है। इससे सुपेबेड़ा की जनता को एक नई आशा और विश्वास दिखाई दे रहा है।