स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

लवारिश बैग लेकर कोच अटेंडर पहुंचा जीआरपी

Murari Soni

Publish: Sep 20, 2019 11:55 AM | Updated: Sep 20, 2019 11:55 AM

Bilaspur

छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस के बी 4 कोच अटेंडर ने जीआरपी बिलासपुर पहुंच लावारिश बैग सुपुर्द किया है

बिलासपुर. छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस के बी 4 कोच अटेंडर ने जीआरपी बिलासपुर पहुंच लावारिश बैग सुपुर्द किया है। बैग में मध्यप्रदेश पुलिस का बैच लगा कैप था। कोच अंटेडर ने कहा कि पहले भी उन्हें लवारिश बैग मिल चुके है। एक बैग में तो हीरे की अंगूठी भी मिली थी। जिसे उन्होंने झांसी जीआरपी को दिया था।
जीआरपी के अनुसार दोपहर दो बजे छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस के कोच अटेंडर गुलजार भाई निवासी आगरा छावनी बिलासपुर स्टेशन के जीआरपी थाने पहुंचे। थाने में उन्होंने बताया कि बी-4 के बर्थ नं. 55 में एक लावारिश बैग रखा हुआ था। गेट पर खड़े व अन्य सीट पर उन्होंने मौजूद लोगों से पूछताछ की लेकिन बैग का कोई स्वामी नहीं मिला। बैग को खोलने पर उसमें मध्यप्रदेश पुलिस की बैच लगी कैप व इस्तेमाली कपड़े मिले।

बिलासपुर ट्रेन का आखरी स्टापेज होने के कारण वह बिलासपुर जीआरपी में बैग को जमा कराने पहुंचे है। गुलजार भाई ने बताया कि वह लम्बे समय में कोच अटेंडर का काम करते है। उन्हें अक्सर ट्रेनों में लवारिश बैग मिलता है। जिसे वह जीआरपी में जमा कराते है। इससे पहले भी उन्हें ट्रेन में मिले लावारिश बैग में हीरे की अंगूठी मिली थी। जिसे उन्होंने झांसी रेलवे स्टेशन में जीआरपी थाने के सुपुर्द किया था।

वही कई बार सोने के गहने व नगदी रकम भी बैग में मिलते है। वह जीआरपी को सौंप देते है। लवारिश सामान अपने वास्तविक स्वामी तक पहुंच सके इसके वह अपने स्तर पर भी खोजने का प्रयास करते है। उन्होंने बताया कि मानव सेवा करने की प्रेणना अपने माता पिता से विरासत में मिला है।