स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इस दीपावली महिलाओं ने गोबर को बना दिया सोना, देखने पहुंचे कलेक्टर ------ पढि़ए कैसे

Jayant Kumar Singh

Publish: Oct 20, 2019 18:52 PM | Updated: Oct 20, 2019 18:57 PM

Bilaspur

Bilaspur Collector: महिलाओं ने 21 क्विंटल वर्मी खाद का उत्पादन किया है। जो तत्काल ही बिक गये। (Collector Arrived)

बिलासपुर. (Bilaspur Collector) मरवाही विकासखंड के ग्राम गुल्लीडांड़ के आदर्श गौठान में स्व-सहायता समूह की महिलाओं द्वारा वर्मी कम्पोस्ट खाद बनाने और विक्रय करने का काम शुरू कर चुकी हैं। उनके द्वारा निर्मित खाद को मार्केट भी मिल रहा है। जिससे महिलाएं उत्साहित हैं। गौठान से लगे हुए बाड़ी में इन महिलाओं द्वारा जैविक सब्जी का उत्पादन भी किया जा रहा है। इन महिलाओं द्वारा संचालित आर्थिक गतिविधियों को प्रोत्साहन देने के लिये कलेक्टर डाॅ.संजय अलंग द्वारा विशेष पहल की गई है। (Collector Arrived)
इस आदर्श गौठान में संचालित गतिविधियों का जायजा लेने के लिये कलेक्टर डाॅ.संजय अलंग ने गौठान का भ्रमण किया। गौठान में महामाया महिला स्व-सहायता समूह द्वारा बनाये जा रहे वर्मी कम्पोस्ट खाद का अवलोकन कर निर्देशित किया कि खाद के हाथों-हाथ विक्रय की व्यवस्था बनायी जाये। शुरूआत में इन महिलाओं ने 21 क्विंटल वर्मी खाद का उत्पादन किया है। जो तत्काल ही बिक गये। गौठान से लगे हुए लगभग 1 एकड़ बाड़ी में ममता महिला स्व-सहायता समूह द्वारा सब्जी का उत्पादन किया जा रहा है।

बाड़ी में गौठान से प्राप्त वर्मी खाद का उपयोग कर मेथी, पालक, लालभाजी, धनिया उगाई जा रही है। जिससे जैविक भाजी का स्वाद लोगों को मिलेगा। इन महिलाओं की मांग पर कलेक्टर ने आलू, जिमीकंद, गाजर, मूली, शलजम के बीज एवं पौधे उन्हें उपलब्ध कराने हेतु उद्यानिकी विभाग को निर्देशित किया।

कलेक्टर ने समूह की गतिविधियां बढ़ाने के लिये उन्हें प्रशिक्षित करने के निर्देश दिये। इन समूहों का विधिवत पंजीयन करने और उनका बैंक खाता खुलवाने हेतु भी निर्देशित किया गया।

कलेक्टर ने कहा कि गौठान के चारों ओर मेहंदी के पेड़ लगाये जाये। जिससे पर्यावरण को फायदा होगा। साथ ही उनके पत्तों को सुखाकर महिलायें बेचेंगी। जिससे उन्हें आय भी होगी। कलेक्टर ने समूह की महिलाओं से चर्चा की और उन्हें अन्य गतिविधियों के लिये प्रोत्साहित भी किया। उद्यानिकी विभाग द्वारा वर्मी खाद उत्पादन करने वाली महिलाओं को निःशुल्क तौल कांटा, वर्मी बेड और ड्रम प्रदान किया गया। गौठान में करीब 8 एकड़ से अधिक क्षेत्र में चारागाह विकास किया गया है। जिससे गौठान में आने वाले मवेशियों को भरपूर चारा उपलब्ध हो रहा है। कलेक्टर ने चारागाह का भी निरीक्षण किया। उन्होंने गौठान समिति का शीघ्र गठन हेतु भी निर्देश दिये।

इस अवसर पर जिला पंचायतके मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रितेश कुमार अग्रवाल सहित पशुपालन, कृषि एवं अन्य संबंधित विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।