स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

घरों में थे गरीब बच्चे और महिलाएं और नगर निगम ने चला दी जेसीबी, भर-भराकर घिरे मकान और...

Murari Soni

Publish: Sep 10, 2019 18:22 PM | Updated: Sep 10, 2019 18:22 PM

Bilaspur

नाली खोदने के नाम पर खोद डाली घरों की नीव, दर्जनों मकानों को हुआ नुकसान

बिलासपुर. शहर के जगमल चौक के पास नाली खुदाई के नाम पर प्रशासन ने सड़क के दोनों तरफ ऐसी खुदाई की कि लोगों के घरों की नीव तक खोद डाली। नाली किनारे बने कच्चे घरों में कई बच्चे और महिलाएं अंदर थी और ठेकेदार ने घर का धरासायी कर दिया। घर के पीछे का हिस्सा भर भराकर धरासायी हो गया और चीख पुकार मच गई। गरीबों के घर गृहस्थी का सामान नाले में आ गया। गनीमत रही कि ठेकेदारों की इस लापरवाही में बच्चे बाल-बाल बच गए अन्यथा गंभीर वारदात हो सकती थी।
स्थानीय लोगों की माने तो विगत 3 तारीख से जगमल चौके से नाली के दोनों तरफ नाली खुदाई का काम चल रहा था। ठेकेदार नाली खुदाई के दौरान घरों की नीव तक जेसीबी चला रहे थे। स्थानीय लोगों ने इसका विरोध किया और कहा कि नाली खोदिए लेकिन मेरी जमीन पर और घर में जेसीबी न चलाएं। लेकिन ठेकेदार नहीं माना। एक लाइन से ठेकेदार ने दर्जनों घरों की नींव हिला डाली थी।
मंगलवार की शाम करीब 4 बजे जेसीबी चालक ने गरीब महिला मालती महंत और नीतू महंत के कच्चे मकान को तोड़ डाला। दोनों ही घरों में परिवार के दर्जनों लोग थे। मना करने के बाद भी जेसीबी चालक ने नीव खोद दी और मकान गिर गया। परिवार के लोग किसी तरह जान बचाकर भागे। वारदात में घर में रखा गृहस्थी और इलेक्ट्रोनिक सामान तहस-नहस हो गया। विरोध किया तो ठेकेदार फोन ऑफ करके भाग गया लेकिन उसके गुर्गे धड़ल्ले से नाली की खुदाई करते रहे।

--बच्चों सहित इस घर में हम 6 लोग रहते हैं। हम लोगों की बाल-बाल जान बची है। पति गैस एजेंसी में ड्राइवर हैं किसी तरह घर चलाते हैं और भरी बरसात में सिर के ऊपर से छत छिन जाने से परिवार सदमें में आ गया है। प्रशासन से मेरी मांग है कि मेरे घर का बनवाए।
मालती महंत
पीडि़त मकान मालिक


---इन लोगों को लगातार मना कर रहे थे कि नाली खोदते वक्त सावधानी बरतें, हमारे कच्चे मकान गिर सकते हैं। लेकिन ये अडिय़ल ठेकेदार नहीं माने और उन्होंने हमारे घर को ही तहस-नहस कर दिया। घर में जो भी कीमती सामान था वह क्षतिग्रस्त हो गया है। प्रशासन हमारे घरों की मरम्मत करवाए।
नीतू महंत


--ठेकेदार ने इस लाइन के दर्जनों मकानों का क्षतिग्रस्त कर दिया है। मकान के नीचे की नीव ही गायब कर दी है। कई दुकानों और घरों के नीचे गड्डे कर दिए हैं, और भी घर गिरने की कगार पर पहुंच गए हैं।
हर्षदीप सिंह खनूजा
दुकान संचालक