स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

गोबर से बने दीए से जगमग होगी घरों की रोशनी, पहली बार ऐसे दीए बिक्री के लिए मंगलवार से बाजार में मिलेंगे

GANESH VISHWAKARMA

Publish: Oct 20, 2019 21:04 PM | Updated: Oct 20, 2019 21:04 PM

Bilaspur

इस बार लोगों के घरों में दीपावली पर गोबर के दीए रोशन होंगे। शहर में पहली बार गोबर से निर्मित दीए का विक्रय किया जाएगा।

बिलासपुर. इस बार लोगों के घरों में दीपावली पर गोबर के दीए रोशन होंगे। शहर में पहली बार गोबर से निर्मित दीए का विक्रय किया जाएगा। मंगलवार को लिंकरोड पर स्थित उद्योग भवन में इन दीयो को विक्रय के लिए उपलब्ध कराया जाएगा। भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी व सहायक कलेक्टर सुरेश कुमार ध्रुव की निगरानी में दो गांवों में महिलाओं की स्व सहायता समूह यह दीए तैयार कर रहीं है। बेमौसम बारिश से दीए बनाने की रफ्तार पर असर पड़ा है।
तखतपुर विकासखंड के अंतर्गत ग्राम लाखासार और चोरभ_ी की दो महिला समूह की महिलाएं गोबर से दीए बना रहीं है। पिछले एक सप्ताह में लगभग दस हजार दीए तैयार कर चुकी है। इन दीए को सूखाने के लिए धूप की जरूरत है। लेकिन पिछले एक सप्ताह से बेमौसम बारिश से इसके निर्माण और सूखाने की प्रक्रिया पर असर पड़ा है। इसलिए गोबर से दीए बनाने की रफ्तार धीमी हो गई है।

खूबसूरत दीए तैयार
लाखासार और चोरभ_ी की महिलाओं के समूह ने खूबसूरत रंगबिरंगायां दीए तैयार किए है। इन दीए को मंगलवार को आमजनों के विक्रय के लिए लिंक रोड स्थित उद्योग भवन में प्रदर्शनी लगाई जाएगी। फिलहाल दीए के मूल्य तय नहीं किए गए है। यह दीए भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी व सहायक कलेक्टर सुरेश कुमार ध्रुव की निगरानी में तैयार किए जा रहे है।

कंचनपुर में दीए बनाना स्थगित
कोटा विकासखंड के ग्राम कंचनपुर के गौठान में 60 महिलाओं के समूहों ने दीपावली में गोबर के दीए विक्रय के लिए बनने की तैयारी की थी। लेकिन उस क्षेत्र में लगातार बारिश होने की वजह से फिलहाल गोबर से दीए बनाने का कार्य स्थगित कर दिया गया है। अब इस गौठान में महिलाओं के समूह द्वारा गोबर के धूप बत्ती और गमले तैयार करने की प्रक्रिया चल रहीं है।

इको फ्रेंडली होंगे दीए
गोबर से बने दीए पूरी तरह से इको फ्रेंडली है। इस दीए को कलर करने से इसकी खूबसूरती और आकर्षक हो गई है। पूरी तरह सूखें दीए में तेल और बाती रखने के बाद यह दीए तेल को सोखें नहीं। इन दीए को दीपावली के बाद भी इस्तेमाल कर सकेंगे। यह दीए मिट्टी के दीए से भी हल्के होंगे।

दीए मंगलवार से बाजार में
गोबर से निर्मित दीए विक्रय के लिए मंगलवार से बाजार में उपलब्ध होंगे। लिंक रोड स्थित उद्योग भवन में यह दीए विक्रय किए जाएंगे। फिलहाल दस हजार दीए तैयार है। दीए का निर्माण महिलाओं के समूह ने किया है।
सुरेश कुमार ध्रुव,सहायक कलेक्टर,बिलासपुर