स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इस प्रसिद्द मंदिर के पास सनसनाती आती है मौत, अगर किया लापरवाही तो ऐसे ही चले जाती है जान

Saurabh Tiwari

Publish: Aug 16, 2019 20:05 PM | Updated: Aug 17, 2019 11:25 AM

Bilaspur

छोटी सी लापरवाही बनी इस व्यक्ति के मौत का कारण

बिलासपुर. Katni से Bilaspur आ रही बिलासपुर मेमू की गुरुवार को रात करीब 8 बजे खोडऱी भनवारटंक के पास पहुंची थी इस दौरान एक व्यक्ति ट्रेन की चपेट में आ गया। दुर्घटना में व्यक्ति की मौत हो गई। लोको पायलट की सूचना पर मर्ग कायम कर जीआरपी पेंड्रा रोड चौकी प्रभारी डीन श्रीवास्तव ने जांच शुरू की। मृतक की तलाशी के दौरान उसके पास ऐसा कोई दस्तावेज नहीं मिला जिससे उसकी शिनाख्त हो सके। चौकी प्रभारी डीएन श्रीवास्तव ने बताया कि मृतक 68748 Katni-Bilaspur memu local से एक अज्ञात व्यक्तिउम्र लगभग 40 से 45 वर्ष के बीच है। मृतक का रंग सावला, इकहरा बदन, काली मुछ व दाड़ी व सर के बाल काले है। मृतक हल्का भूरा काला लोअर व टीशर्ट पहने हुआ था। मृतक की शिनाख्त के लिए जीआरपी गुमशुदा इंसान की सूची व स्थानीय पुलिस के अलावा जिले व आसपास के क्षेत्र में जानकारी दे कर मामले की जांच कर रही है।

 

Bhanwar tonk temple

इस वजह से है खतरनाक
भनवारटंक में एक रेल टनल है और एक ब्रिज है दोनों ही बेहद खतरनाक हैं। इससे ज़्यादा खतरनाक है भनवारटंक स्टेशन जिससे बिलकुल लगा हुआ है सिद्ध मंदिर। यहाँ अक्सर भक्तों का तांतां लगा होता है और इसी से चिपक कर ट्रेन यहाँ से सनसनाते हुए निकलती है। क्यूंकि यह रूट अमरकंटक रेंज की पहाड़ियों से होकर जाता है यह रूट और भी खतरनाक हो जाता है। इस रूट पर संकरे पुल, ओवरब्रिज, टनल, ट्रैक से चिपके हुए पहाड़ और चट्टान सभी देखने को मिलता है। यह नज़ारा देखने में तो खूबसूरत होता है लेकिन इसके अपने ही खतरे हैं।