स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पूर्व सीएम को नहीं मिली एम्बुलेंस, स्वास्थ्य मंत्री को लिखा पत्र तो हुआ ऐसा एक्शन

Saurabh Tiwari

Publish: Aug 16, 2019 19:04 PM | Updated: Aug 16, 2019 19:14 PM

Bilaspur

वह दर्द से तड़प रही थी पर नहीं आ रहा था एम्बुलेंस, जब पूर्व सीएम ने किया फ़ोन तो उनको भी कह दिया नहीं भाई !!!

बिलासपुर. पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के दो घंटे तक चिरौरी करने पर भी बीमार युवती को 108 की सुविधा नहीं मिल सकी। जोगी रात में दो घंटे तक फोन लगाते रह गए। लेकिन 108 नहीं मिला। थक-हारकर उन्होंने प्रायवेट गाड़ी की व्यवस्था कर युवती को अस्पताल भिजवाया। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव के निर्देश पर सीएमएचओ डॉ. प्रमोद महाजन को नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है।

अजीत जोगी के विधानसभा इलाके मरवाही की बीमार युवती को एम्बुलेंस से गौरेला सेनेटोरियम अस्पताल भेजने के लिए उन्होंने रात में कई बार 108 को फोन लगाया। 108 से उन्हें कहा गया, एम्बुलेंस रिपेयरिंग के लिए बिलासपुर आई है। आप 102 से बात कर लें। जोगी ने जब 102 को फोन लगाया तो उन्हें सलाह दी गई, आप 108 से बात करें। जब उन्होंने बताया कि 108 गाड़ी रिपेयरिंग में गई है तो जवाब मिला, 108 वालों के कहे बिना वे एंबुलेंस नहीं भेज सकते। उन्होंने फिर 108 को फोन लगाकर कहा कि 102 को बोल दें कि वे अपना एम्बुलेंस भेज दें। लेकिन, उसने पूर्व सीएम के आग्रह को अनसुना कर दिया। जोगी ने उसका नाम पूछा तो उसने यह कहते हुए नाम बताने से इंकार कर दिया कि उसे उच्चाधिकारियों ने अपना नाम बताने से मना किया है। इसके बाद उसने जोगी के फोन को रिकार्डेड मैसेज के मोड पर डाल दिया। जोगी ने इसके बाद बिलासपुर के सीएचएमओ से बात की। मगर इसके बाद भी कोई फायदा नहीं हुआ।

इस व्यक्ति ने पं नेहरू को आगर नदी के पुल पर पैदल चलने को किया था मजबूर, बापू ने भी इन्हें कहा- एक तो मैं पागल, आप मुझ से भी बड़े...

जोगी ने आज सुबह इस घटना को लेकर ट्वीट किया कि प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाओं की स्थिति कितनी दयनीय है। उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री को पत्र भी लिखकर अपनी पीड़ा व्यक्त की कि जीवन में मुझे पहली बार किसी ने दो घंटे तक इंतजार कराने के बाद बात नहीं की और रिकार्डेड फोन सुनाया गया। अभी तक फोन पर उन्हें दो घंटे तक किसी ने इंतजार नहीं कराया। दिल्ली में जब भी चाहें, प्रधानमंत्री से भी आधे घंटे के भीतर उनकी बात हो गई। लेकिन, छत्तीसगढ़ में पूर्व मुख्यमंत्री को दो घंटे के बाद भी न कोई बात करता है और न ही वाहन भेजता है। जोगी के ट्वीट और लेटर के बारे में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव को जैसे ही पता चला, उन्होंने तत्काल जोगी को फोन लगाकर बात की। सिंहदेव ने उनसे खेद व्यक्त करते हुए कहा कि निश्चित तौर पर यह घटना बेहद गंभीर है। इस मामले में कार्रवाई की जाएगी। इसके बाद बताते हैं, जोगी ने अपना ट्वीट हटा लिया। जोगी से बात करने के बाद सिंहदेव ने तत्काल सिकरेट्री हेल्थ निहारिका बारिक को फोन लगाया। उन्होंने कहा कि इसमें दोषी कोई भी हो, कार्रवाई सुनिश्चित करें। सिंहदेव के निर्देश पर सीएमएचओ डॉ प्रमोद महाजन को नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है।

अभी तक नोटिस नहीं मिला है लेकिन 108 वालों को पूर्व सीएम अजीत जोगी से माफी मांगने के लिए कह दिया था।
- डॉ. प्रमोद महाजन सीएमएचओ

15 अगस्त पर सीएम की बड़ी घोषणा, पेंड्रा-गौरेला-मरवाही नाम से बना दिला जिला, देखें जोगी दंपत्ति की प्रतिक्रिया