स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

छत्तरगढ़ का रोडवेज बस स्टैण्ड बंद होने की कगार पर

Nikhil Swami

Publish: Sep 11, 2019 12:12 PM | Updated: Sep 11, 2019 12:12 PM

Bikaner

bikaner news- स्बे में उपखण्ड अधिकारी कार्यालय सामने राजस्थान रोडवेज पथ निगम का बस स्टैंड बदहाली पर आसूं बहा रहा है।

छत्तरगढ़. कस्बे में उपखण्ड अधिकारी कार्यालय सामने राजस्थान रोडवेज पथ निगम का बस स्टैंड बदहाली पर आसूं बहा रहा है।बीकानेर रोडवेज आगार प्रबंधन को अवगत करने के बावजूद इस ओर कोई ध्यान नही दिया जा रहा है। इसे ना विकसित करने कोई प्रक्रिया अपनाई जा रहीं है। छत्तरगढ़-बीकानेर रोड पर रोडवेज बस स्टैंड की अनदेखी के चलते आमजन सहित यात्रियों में रोष है। इस वर्तमान में रोडवेज बस स्टैंड पर सन्नाटा छाया रहता है।

गौरतलब है कि बीकानेर आगार निगम के अधीन इस बस स्टैंड पर रोजाना दर्जनों बसें आवागमन करतीं हैं तथा बड़ी तादाद में यात्री रोजाना यात्रा करते हैं लेकिन रोडवेज अधिकारियों द्वारा सुविधाएं नहीं देने से उजडऩे के कगार पर जा पहुंचा है। यहां आवाजाही करने वाली बसों एवं यात्री की बुकिंग करने वाला कर्मचारी भी नहीं है। कर्मचारी के अभाव में कई बार यात्री इन्तजार के बाद निजी बसों का सहारा लेता है।

बस स्टैंड पर रोडवेज कर्मचारी की अनुपस्थिति व निगम प्रशासन की अनदेखी से इस भूमि पर भूमाफिया की नजर है। जिला परिषद सदस्यमदनमोहन ज्याणी ने बताया कि बीकानेर रोडवेज आगार निगम को इसे विकसित कर यात्री सुविधाओं की ओर ध्यान देकर रोडवेज बस की आय के जरिया बढऩा चाहिए। ताकि निगम की आय बढ़े।

परिसर में वर्तमान में यह है स्थापित
करीब छह बीघा भूमि पर रोडवेज बस स्टैंड बना है। इसमें दो कमरे, एक यात्री विश्रामग्रह, एक सुलभ शौचालय व एक भ्रमण पार्क है। इसका निर्माण तत्कालीन थानाधिकारी हंसराज लूणा ने जनसहयोग से करवाया था। यहां दो बड़े गोदाम जर्जरवस्था में है। गत सात-आठ महीनों से परिसर में कम बसों के ठहराव कारण चारों ओर गंदगी के ढेर लगे हैं। आस-पास के लोगों ने इस परिसर को कचरा डालने का स्थान बना लिया है।

स्टाफ की कमी
बीकानेर रोडवेज आगार के पास पर्याप्त सामान भी नहीं है। ना ही पर्याप्त कर्मचारी व परिचालक है। स्टाफ पूरा नहीं होने के अभाव में कुछ नहीं कर सकते हैं।
इंदिरा गोदारा, मुख्य प्रबंधक, बीकानेर आगार