स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बीकानेर : जामसर में कार से 13 हजार जिंदा कारतूस मिले, तस्कर हुए फरार

Jitendra Goswami

Publish: Sep 10, 2019 09:37 AM | Updated: Sep 10, 2019 09:37 AM

Bikaner

bikaner news : बीकानेर. जामसर. श्रीगंगानगर-बीकानेर नेशनल हाईवे-62 पर रविवार देर रात पुलिस ने एक कार को रोककर तलाशी ली तो उसमें से पिस्टल और एयरगन के करीब 13000 जिंदा कारतूस live cartridges मिले।

बीकानेर. जामसर. श्रीगंगानगर-बीकानेर नेशनल हाईवे-62 पर रविवार देर रात पुलिस ने एक कार को रोककर तलाशी ली तो उसमें से पिस्टल और एयरगन के करीब 13000 जिंदा कारतूस live cartridges मिले। पुलिस ने कार को रोककर तलाशी लेनी शुरू की, तभी उसमें सवार दो जने चकमा देकर भाग निकले। कार की डिक्की में कारतूसों का जखीरा देखकर पुलिस अधिकारी हैरान रह गए।
रातभर पुलिस टीमें खेतों में आरोपियों की तलाश में जुटी रही, लेकिन पकड़ नहीं पाए।

जब्त की गई कार बीकानेर निवासी नेहा झा के नाम पर रजिस्टर्ड होना सामने आया है। जामसर थानाधिकारी कानाराम ने बताया कि पुलिस महानिरीक्षक जोस मोहन एवं पुलिस अधीक्षक प्रदीप मोहन शर्मा के निर्देश पर रविवार रात हाईवे पर नाका लगाकर वाहनों की जांच कर रहे थे। रात १२ बजे बाद श्रीगंगानगर की तरफ से आ रही कार को रोका। चालक को कागज दिखाने के लिए कहा तो वह और उसका साथी नीचे उतरे तथा खेतों की तरफ भाग गए। पुलिस ने युवकों का पीछा किया, लेकिन अंधेरा होने के चलते वह पकड़ में नहीं आए।

पुलिस ने कार की डिक्की खोलकर तलाशी ली तो उसमें 12 बोर पिस्टल के 175 कारतूस, 0.32 पिस्टल के 200 कारतूस, 0.22 पिस्टल के 600 कारतूस और एयरगन के 12000 कारतूस मिले। कार व कारतूसों को कब्जे में लेते ही पुलिस महानिरीक्षक और पुलिस अधीक्षक को सूचना की।साथ ही श्रीगंगानगर-बीकानेर जिले के थानों को सूचना कर नाकाबंदी कराई। थानाधिकारी ने बताया कि कार की नम्बर प्लेट पर लिखे नम्बरों की पड़ताल करने पर वह विकल्प झा की पत्नी नेहा झा निवासी बीकानेर के नाम से रजिस्टर्ड पाई गई। पुलिस ने प्रारंभिक जांच-पड़ताल के बाद विकल्प उर्फ विनीत झा, उसकी पत्नी नेहा झा और तिलकनगर निवासी मनमोहन चौधरी को आरोपी बनाया है।

हथियार लाइसेंस प्रकरण में लिप्त रहा था
आरोपी विनित झा श्रीगंगानगर के चर्चित फर्जी हथियार लाइसेंस प्रकरण के दौरान भी चर्चा में रहा था। उसकी आम्र्स की दुकान का लाइसेंस इसी के चलते निरस्त किया गया था। फर्जी हथियार लाइसेंस बनाने वाले अधिकारियों, कर्मचारियों के साथ हथियार बेचने वाले श्रीगंगानगर, बीकानेर के दुकानदार भी जांच के घेरे में आए थे।

एसपी तुरंत मौके पर पहुंचे
कार से भारी मात्रा में कारतूस बरामद होने की सूचना मिलते ही देर रात पुलिस अधीक्षक प्रदीप मोहन शर्मा, एएसपी ग्रामीण राजकुमार चौधरी, लूणकरनसर सीओ, बीछवाल, लूणकरनसर व कालू थानाधिकारी जाब्ते के साथ मौके पर पहुंच गए। अलवर के बहरोड प्रकरण थाना की घटना के बाद पुलिस हथियारों के मामले को बेहद गंभीरता से ले रही है।

हथियार साथ लेकर भागने की आशंका
पुलिस को आशंका है कि कार सवार दोनों युवकों के पास पिस्टल और एयरगन भी हो सकते हैं। ये कारतूस किसी हथियार तस्कर गिरोह के होने की आशंका भी जताई जा रही है, जिसके कारिंदे हथियार देने जा रहे थे।

पुलिस कर रही पड़ताल
कार जिस व्यक्ति के नाथ रजिस्टर्ड थी, उसके घर पुलिस टीम भेजी। वहां उसके वृद्ध पिता मिले, जो चिकित्सक पद से सेवानिवृत्त हैं। प्रथमदृष्टया विकल्प झा व उसकी पत्नी व मनमोहन चौधरी को आरोपी माना है। अब पुलिस यह पता करने में जुटी है कि कार में कौन सवार थे। कारतूस कहां से और क्यों लाए थे, इनका उद्देश्य क्या था। इन सबकी जांच-पड़ताल के लिए एएसपी ग्रामीण के नेतृत्व में पुलिस टीम काम कर रही है। विकल्प झा लाइसेंस हथियार बेचने की दुकान चलाता था, लेकिन पिछले एक-दो साल से काम बंद है। इससे पुलिस को अंदेशा है कि वह हथियार तस्करी करने के उद्देश्य से ही कारतूस लाया था।
प्रदीप मोहन शर्मा, पुलिस अधीक्षक