स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

टूटने वाला है 2006 का रिकॉर्ड , दो घंटे में 16 मिमी बारिश , वायरस ने बढ़ाया संक्रमण

Amit Mishra

Publish: Sep 17, 2019 09:00 AM | Updated: Sep 17, 2019 09:00 AM

Bhopal

सितंबर महीने में पहली बार दिनभर खुला मौसम
शाम को दो घंटे में 16 मिमी बारिश
मानसून सीजन का कुल आंकड़ा 1669.7 मिमी पर पहुंचा, अब 2006 के रेकॉर्ड से 10 मिमी कम

भोपाल। सितंबर महीने में सोमवार को पहली बार दिनभर मौसम खुला रहा। धूप निकलने से शहरवासियों ने राहत महसूस की। हालांकि देर शाम एक बार फिर बादल छाए और जोरदार बारिश heavy rains 2019 हुई। बादलों ने दिनभर की कसर दो घंटे में ही पूरी कर ली। शाम 6.30 से 8.30 के बीच दो घंटे में 16 मिमी बारिश हो गई। इस तरह सोमवार को सुबह 8.30 बजे से रात 11.30 बजे के दरमियान 22.08 मिमी बारिश दर्ज हुई।


10 मिमी का अंतर रह गया है
इसके साथ ही इस मानसूनी सीजन में कुल बरसात का आंकड़ा 1669.7 पर पहुंच गया है। मौसम विभाग के रेकॉर्ड में अब तक सबसे ज्यादा बारिश वर्ष 2006 के मानसून सीजन में हुई थी। उस वर्ष 1680 मिमी बारिश के रेकॉर्ड को टूटने में मात्र 10 मिमी का अंतर रह गया है।

bhopal_rain_1.jpg

तापमान 30.2 डिग्री दर्ज हुआ
शहर में रविवार दोपहर कुछ देर के लिए आसमान खुलने से एक पखवाड़े से जमे बादलों से राहत मिलने की उम्मीद जागी थी। यह सोमवार सुबह पूरी हो गई। दिनभर आसमान खुला रहा, दिनभर धूप निकलने से तापमान में बढ़ोतरी हुई। अधिकतम तापमान में रविवार की अपेक्षा 2.6 डिग्री की बढ़ोतरी दर्ज की गई। एक सप्ताह बाद तापमान 30.2 डिग्री दर्ज हुआ। लगातार बारिश के चलते आठ सितंबर से तापमान लगातार 30 डिग्री के नीचे चल रहा था। इससे पहले सोमवार सुबह न्यूनतम तापमान में भी दो डिग्री की बढ़ोतरी हुई और न्यूनतम तापमान 24 डिग्री दर्ज किया गया।

 

वायरस ने बढ़ाया आंखों का संक्रमण
शहर में वायरल के साथ आंखों का संक्रमण भी बढऩे लगा है। ऐसे में जेपी सहित अन्य सरकारी और निजी अस्पतालों में नेत्र रोग विशेषज्ञों के पास इनके मरीजों की तादाद में इजाफा हुआ है। जेपी अस्पताल के नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. केके अग्रवाल का कहना है कि बारिश के बाद धूप में वायरस व बैक्टीरिया कंजक्टिवाइटिस फैलाने व एलर्जी पैदा करने का कारण बन सकते हैं। इससे आंखें लाल पड़ जाती हैं। चुभन व खुजली महसूस होती है। ऐसी स्थिति में जरा भी लापरवाही आंखों के लिए खतरनाक साबित हो सकता है।

bhopal_2.png

डॉक्टरों की छुट्टियों पर रोक
शहर के अस्पतालों में मरीजों की बढ़ती संख्या देखते हुए डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं। हमीदिया की ओपीडी में सोमवार को आए 2685 मरीजों में से 700 सर्दी, खांसी और वायरल बुखार से पीडि़त थे। जेपी अस्पताल में विभिन्न बीमारियों से पीडि़त 2400 मरीज इलाज कराने पहुंचे।

 

राजस्थान की ओर गया कम दबाव का क्षेत्र
मौ सम विशेषज्ञों का कहना है कि पिछले एक सप्ताह से प्रदेश के उत्तरी हिस्से में स्थित कम दबाव का क्षेत्र कुछ कमजोर हुआ है। हालांकि मानसून द्रोणिका इसके बीच से निकल रही है, लेकिन कम दबाव के क्षेत्र के कमजोर होने से शहर में वर्षा की गतिविधियां कम होने का पूर्वानुमान है।