स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Weather Forecast- 20 जिलों में छाए बादल, गरज-चमक के साथ बारिश की संभावना

Manish Geete

Publish: Oct 21, 2019 19:09 PM | Updated: Oct 22, 2019 15:33 PM

Bhopal

imd weather forecast- मध्यप्रदेश में मानसून के दोबारा से पलटी मारने के बाद हल्की ठंड महसूस होने लगी है। जबकि ज्यादातर जिलों में बादल छाए हुए हैं। मौसम विभाग के मुताबिक बादलों के छंटते ही ठंड और बढ़ जाएगी।

भोपाल। मध्यप्रदेश में मानसून के दोबारा से पलटी मारने के बाद हल्की ठंड महसूस होने लगी है। जबकि ज्यादातर जिलों में बादल छाए हुए हैं। मौसम विभाग के मुताबिक बादलों के छंटते ही ठंड और बढ़ जाएगी। इधर, मौसम विभाग ने 20 जिलों में गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने या बारिश का पूर्वानुमान ( weather forecast ) जारी किया है।

मौसम विज्ञान केंद्र ( India Meteorological Department ) के मुताबिक हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी शुरू हो चुकी है। मौसम साफ होने के बाद इस बर्फबारी के कारण ठंडी हवा निचले इलाकों की तरफ जाएगी। इससे वातावरण में ठंडक बढ़ेगी। मौसम विभाग को उम्मीद है कि इस बार ठंड भी अच्छी हो सकती है।

 

मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक अरब सागर पर बन रहे कम दबावके क्षेत्र और उत्तर प्रदेश में बन रहे चक्रवात के कारण प्रदेश में मौसम में नमी बढ़ी है, जबकि उत्तर-पश्चिमी हवा का रुख होने के कारण वातावरण में ठंडक बढ़ रही है। मौसम विभाग ( imd ) के मुताबिक अरब सागर में बने चक्रवात के साथ ही एक ट्रफ लाइन बनने से मध्यप्रदेश में बादल छाए हुए हैं। इस कारण कहीं-कहीं बारिश की भी संभावना है।

उज्जैन में 3.5 डिग्री गिरा पारा
अरब सागर और कोंकण में बने ऊपरी हवा के चक्रवात से वातावरण में बदलाव हुआ है। बादलों का डेरा होने के कारण मौसम में ठंडक आ गई है। एक ही दिन में तापमान साढ़े तीन डिग्री गिर गया है। सोमवार सुबह भी आंशिक कोहरा था। उज्जैन में भी दीपावली से पहले बारिश के आसार बन गए हैं।

 

यह है पिछले 24 घंटों का हाल
मध्यप्रदेश में पिछले 24 घंटों के दैरान जबलपुर, होशंगाबाद संभागों के जिलों में अनेक स्थानों पर, शहडोल संभाग के जिलों में कुछ स्थानों पर, इंदौर, रीवा एवं भोपाल संबागों के जिलों में कहीं-कहीं बारिश दर्ज की गई। प्रदेश के शेष जिलों में मौसम शुष्क रहा।

रीवा, शहडोल, इंदौर, सागर एवं भोपाल संभागों के जिलों में अधिकतम तापमान में गिरावट दर्ज की गई। होशंगाबाद संभाग के जिलों में विशेष रूप से कम हुआ। इसके अलावा रीवा, शहडोल, जबलपुर, उज्जैन, ग्वालियर और चंबल संभागों के जिलों में सामान्य से कम इंदौर, सागर, भोपाल संभागों के जिलों में काफी कम और होशंगाबाद संभागों के जिलों में सामान्य से विशेष रूप से कम रहे। प्रदेश में सर्वाधिक अधिकतम तापमान 30 डिग्री ग्वालियर, शिवपुरी और श्योपुरकलां में रिकार्ड किया गया।

नयूनतम तापमान में सभी संभागों के जिलों में विशेष परिवर्तन नहीं हुआ। सागर, भोपाल, उज्जैन, ग्वालियर और चंबल संभागों के जिलों में सामान्य से काफी अधिक, शहडोल संभाग के जिलों में सामान्य से विशेष रूप से अधिक और रीवा, जबलपुर, होशंगाबाद एवं इंदौर संभागों के जिलों में सामान्य से अधिक रहा। प्रदेश में सबसे कम तापमान 15 डिग्री बैतूल में दर्ज किया गया।

 

कहां-कहां हुई बारिश
मानसून की वापसी के साथ ही अचानक आई नमी के कारण प्रदेश में एक बार फिर बारिश के आसार बन गए हैं। कई जिलों में बादल छाए हुए हैं और बूंदाबांदी का दौर जारी है। प्रदेश के केवलारी में 4, नैनपुर, मंडला में 3 और मलाजखंड, सिवनी, सोहागपुर, पुष्पराजगढ़ में 2 सेमी बारिश दर्ज हुई।

बारिश और गरज-चमक के साथ बौछारें
मध्यप्रदेश के 14 जिलों में से कुछ स्थानों पर बारिश की संभावना व्यक्त की गई है और गरज-चमक के साथ बौछारें भी पड़ने की संभावना जताई गई है। इन जिलों में जबलपुर, कटनी, नरसिंहपुर, सिवनी, मंडला, बालाघाट, छिंदवाड़ा, शहडोल, उमरिया, डिंडोरी, अनूपपुर, होशंगाबाद, बैतूल, हरदा जिलों में कुछ स्थानों पर बारिश या गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ सकती हैं। इनके अलावा रीवा, सतना, सीधी, सिंगरौली, इंदौर, बुरहानपुर, खरगौन, खंडवा, अलीराजपुर, धार, बड़वानी, झाबुआ, रायसेन, भोपास, राजगढ़, सीहोर, विदिशा जिलों में कहीं-कहीं बारिश या गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ सकती हैं। मौसम विभाग ने अपने बुलेटिन में यह भी कहा है कि इन जिलों के अलावा शेष जिलों में मुख्यतः मौसम शुष्क रहेगा।