स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

6 साल से फरार चल रहे अंतर्राज्जीय बाघ शिकारी को एसटीएफ ने गुजरात से पकड़ा

Sunil Mishra

Publish: Oct 22, 2019 08:03 AM | Updated: Oct 22, 2019 08:03 AM

Bhopal

यारालीन उर्फ जसरथ को गुजरात से किया गिरफ्तार

भोपाल/ मध्यप्रदेश एसटीएफ वन्यप प्राणी, राज्य स्तरीय टाइगर स्ट्राइक फोर्स भोपाल को मुखबीर से ईनामी फरार कुख्यात वन्यजीव शिकारी यारालीन उर्फ लूजालेन उर्फ जसरथ के गुजरात के जिला आनदम में होने की सूचना प्राप्त हुई।

इस पर त्वरित कार्यवाही करते हुये दिनांक 10 अक्टूबर को राज्य स्तरीय टाइगर स्ट्राइक फोर्स भोपाल और क्षेत्रीय टाइगर स्ट्राइक फोर्स जबलपुरका संयुक्त दल गठित कर गुजरात भेजा गया। दल द्वारा राज्य के बाहर गुजरात के जिला आनदम के संवेदनशील क्षेत्रों में तलाशी की गई। कई दिनों के तलाशी अभियान के उपरांत कुख्यात वन्यजीव शिकारी यारालीन उर्फ लूजालेन उर्फ जसरथ की पहचान हुई।

19 अक्टूबर को टीम व गुजरात क्राइम ब्रांच (एसओजी) द्वारा संयुक्त कार्यवाही कर रेलवे स्टेशन आनंद गुजरात से पकड़ा। फिर इसे अभिरक्षा में लेकर एमपी लाया गया। यह एक अंतर्राज्जीय शिकारी है जिसके विरूद्ध कई प्रकरण दर्ज हैं। ये प्रकरण हैं दर्ज - माह जून वर्ष 2013 में नागपुर वन मंडल में बाघ का शिकार।

- माह जुलाई वर्ष 2013 में मेंलघाट टाइगर रिजर्व अमरावती में बाघ और भालू का शिकार। - माह जनवरी वर्ष 2013 में वन मंडल पश्चिम मंडला में भालू के शिकार। - माह मार्च वर्ष 2013 में वन मंडल पश्चिम मंडलार भालू का शिकार। - माह फरवरी वर्ष 2013 में पेंच टाइगर रिजर्व सिवनी में बाघ के शिकार। छह वर्ष से रही तलाश उक्त आरोपी यारालीन उर्फ जसरथ पारधी की तालाश विभिन्न राज्यों के वनविभाग और पुलिस को पिछले कई वर्षों से थी। उक्त आरोपी के संबंध में देश के विभिन्न राज्यों से है।

यह अत्यंत सक्रिय वन्यजीव शिकारी गिरोह का सदस्य हैं। इसकी गिरफ्तारी इसलिये भी महत्वपूर्ण है क्योकि इससे वन्यजीव तस्करों का जो जाल देश में था वह भी ध्वस्त होगा। आरोपी को सोमवार को विशेष न्यायालय जबलपुर में पेश कर अग्रिम विवेचना के लिए रिमांड पर लिया गया है। उक्त जानकारी उपवनसंरक्षक कार्यालय प्रधान प्रमुख वन संरक्षक भोपाल ने दी।