स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

भांजे की गिरफ्तारी को सीएम कमलनाथ ने बताया साजिश, कहा- उनके व्यापार से मेरा कोई संबंध नहीं

Pawan Tiwari

Publish: Aug 20, 2019 12:48 PM | Updated: Aug 20, 2019 14:07 PM

Bhopal

  • मध्यप्रदेश के सीएम कमल नाथ के भांजे हैं रतुल पुरी।
  • रतुल पुरी पर 354 करोड़ रुपए के फर्जीवाड़े का आरोप है।

भोपाल. मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमल नाथ ( Kamal Nath ) ने भांजे रतुल पुरी ( ratul puri ) की गिरफ्तारी पर सफाई दी है। कमलनाथ ने मंगलवार को मीडिया से बात करते हुए कहा कि मेरा उनके साथ कोई व्यापारिक संबंध नहीं है। सीएम कमलनाथ ने इस साजिश बताया है इसके साथ ही कमलनाथ ने कहा- मुझे कोर्ट की कार्रवाई पर पूरा भरोसा है कि वो इस मामले में सही निर्णय लेगी। बता दें कि कमलन नाथ के भांजे रतुल पुरी को आज ईडी ने गिरफ्तार किया है।

 

इसे भी पढ़ें- सीएम कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी गिरफ्तार, 354 करोड़ के बैंकिंग घोटाले का है आरोप


सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने की थी शिकायत
यह मामला सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की शिकायत पर दर्ज किया गया था। बैंक ने शिकायत के अनुसार रतुल पुरी की कंपनी 2009 से विभिन्न बैंकों से लोन ले रही थी और कई बार पुनर्भुगतान की शर्तों में बदलाव करा चुकी थी। बैंक की यह शिकायत अब सीबीआई की एफआईआर का हिस्सा है। सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने खाते को 20 अप्रैल को 'फर्जी' घोषित कर दिया था। बैंक का दावा है कि कंपनी और उसके निदेशकों ने सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया से फंड जारी कराने के लिए नकली और जाली दस्तावेजों का प्रयोग किया था।

 

कमल नाथ के भांजे हैं रतुल पुरी
नीता पुरी मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ की बहन हैं और रतुल पुरी कमलनाथ के भांजे हैं। रतुल पुरी अगस्ता वेस्टलैंड मामले में अग्रिम जमानत मिली हुई है। रतुल पुरी की गिरफ्तारी पर कांग्रेस नेता हरीश रावत ने कहा कि मोदी सरकार सरकारी एजेंसियों का गलत यूज कर रही है।

 

धोखाधड़ी का मामला दर्ज
जांच एजेंसी के अधिकारी के मुताबिक, एमबीआईएल के प्रबंध निदेशक दीपक पुरी, कंपनी में पूर्णकालिक निदेशक उनकी पत्नी नीता पुरी, एमबीआईएल के पूर्व कार्यकारी निदेशक और उनके बेटे रतुल पुरी के खिलाफ शनिवार को धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया था। कंपनी के निदेशक संजय जैन, विनीत शर्मा और अन्य अज्ञात सरकारी कर्मचारियों और अन्य व्यक्तियों के खिलाफ भी आपराधिक साजिश रचने का मामला दर्ज किया गया।