स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बिल्डर के बेटे को उठा सनसनी फैला दी थी यह लेडी गैंगस्टर, अब इसलिए हो रही है चर्चा, जानिए इसकी कहानी

Muneshwar Kumar

Publish: Aug 19, 2019 18:35 PM | Updated: Aug 19, 2019 18:35 PM

Bhopal

जानिए फिर क्यों चर्चा में हैं भोपाल की लेडी डॉन श्रुति शर्मा

भोपाल. पिछले साल एक लेडी डॉन श्रुति शर्मा अचानक से चर्चा में आ गई थी। श्रुति अच्छे घराने से ताल्लुकात रखती है। जब इसके कारनामे सामने आए थे तो खुद यह इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रही थी। लेकिन सनक के आगे किसी को कुछ नहीं बुझती। एक बार फिर से यह यह लड़की श्रुति शर्मा चर्चा में है। वजह है कि उस अपराध के मामले में पुलिस इसे क्लिनचिट देने जा रही है।

 

श्रुति शर्मा के कारनामे पहली बार जून 2018 में सामने आया। जब भोपाल के एलएऩ मेडिकल कॉलेज के स्टूडेंट यश पाठे ने खुदकुशी कर ली। यह घटना 16 जून 2018 को घटी थी। इस मामले में मुख्य आरोपी श्रुति शर्मा और शालीन उपाध्याय को बनाया गया था। आरोप था कि श्रुति अपने दोस्तों के साथ मिल कॉलेज के लड़कों को ड्रग्स की सप्लाई करती थी। यश पाठे के परिजनों ने कहा था कि श्रुति यश को ब्लैकमेल कर रही थी।

 lady don

 

पुणे से हुई गिरफ्तारी
इस मामले में नाम सामने आने के बाद श्रुति और शालीन फरार हो गए। करीब पंद्रह दिन बाद भोपाल पुलिस ने दोनों को पुणे के फ्लैट में पेश किया। यह फ्लैट श्रुति के दोस्त का था। वह वहीं छिपकर रह रही थी। गिरफ्तारी के बाद भी उसके चेहरे पर शिकन नहीं थी। पुलिस ने जब उसे गिरफ्तार किया तो उसने कहा कि मैं ड्रग्स नहीं लेती चाहो तो डीएनए टेस्ट करवा लो।

 

विधानसभा के पूर्व सचिव
श्रुति के पिता सत्यनारायण शर्मा विधानसभा के पूर्व सचिव रहे हैं। जिस साल इसने वारदात को अंजाम दिया था, उस साल तक इस पर गंज थाने में मारपीट और एससी एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज था। गिरफ्तारी के बाद श्रुति शर्मा को बैतूल पुलिस ने रिमांड पर ली थी। इस दौरान कई खुलासे किए थे।

 lady don

 

मेडिकल कॉलेज के लड़कों से करती थी दोस्ती
लेडी डॉन बनने की ख्वाहिश पाले श्रुति की बड़ी बहन भी एलएमएन मेडिकल कॉलेज की ही स्टूडेंट थी। इस वजह से वहां इसका आना जाना था। श्रुति की इसी दौरान कई लड़कों से पहचान हुई थी। कहा जाता है कि वह मेडिकल कॉलेज के छात्रों को ड्रग्स सप्लाई करती थी। वहां के छात्र इसे दीदी कहकर बुलाते थे। इसके एक इशारे पर वो मार-पीटने को तैयार रहते थे। खुदकुशी करने वाले छात्र यश पाठे की भी श्रुति ने इन्हीं लड़कों से पिटाई करवाई थी।

 

चंद दिनों बाद ही मिल गई जमानत
यश पाठे खुदकुशी मामले में श्रुति शर्मा को बैतूल कोर्ट से 25 हजार रुपये के निजी मुचलके पर 12 जुलाई 2018 को जमानत मिल गई। श्रुति के जमानत का उसके परिजनों ने विरोध किया था। इसके साथ ही यश के परिजन यह भी आरोप लगाते रहे हैं कि उसके परिवार को राजनीतिक रसूख का फायदा मिलता रहा है। कोर्ट से श्रुति को जमानत इसलिए मिल गया था कि उसके खिलाफ कोई सबूत नहीं मिले थे।

 lady don

 

बिल्डर के बेटे का अपहरण
श्रुति कुछ दिनों तक शांत ररही। नवंबर 2018 में वह एक बार फिर से चर्चा में आ गई। उसने एक बिल्डर के बेटे को अपने साथी के साथ मिलकर अपहरण कर ली। साथ ही कार में उसकी पिटाई कर वीडियो भी वायरल की। चलती कार से बिल्डर के बेटे ईशान को वह सड़क पर फेंक दी। श्रुति के खिलाफ तलैया थाने में मामला दर्ज है। इस वारदात के बाद से ही वह फरार है। लेकिन अभी तक पुलिस श्रुति को दोबारा गिरफ्तार नहीं कर पाई।

 

सनक में कुछ भी करती
श्रुति शर्मा खुद को लेडी डॉन घोषित करवाने के लिए वह वीडियो सूट करवा वायरल करती थी। कभी लड़कों को पिटाई करती तो कभी सड़क पर पटाखे फोड़ लोगों को परेशान करती थी। जो भी आवाज उठाता उसकी पिटाई करवाती।

 lady don

 

क्लिनचिट देने की तैयारी
श्रुति शर्मा पर पुलिस ने दस हजार रुपये का इनाम भी घोषित कर रखा है। लेकिन अब खबर है कि पुलिस उसे इस मामले में क्लिनचिट देने की तैयारी कर रही है। अफसरों ने केस डायरी अवलोकन करने के लिए चूना भट्टी थाने से टीटी नगर को सौंप दी। जबकि डीपीओ सलाह दे चुके हैं कि एफआईआर से नाम हटाने का निर्णय कोर्ट करेगा।