स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

तेज ह​वाओं के साथ जोरदार बारिश, दो दिन बनी रह सकती है बूंदाबांदी की स्थिति,देखें वीडियो

Amit Mishra

Publish: Nov 07, 2019 18:31 PM | Updated: Nov 07, 2019 18:31 PM

Bhopal

शाम के करीब 4.15 बजे से हवा के साथ प्रदेश के जिला राजगढ और आसपास के जिलों में बारिश हुई

भोपाल। मध्य प्रदेश के कुछ जिलों में एक बार फिर तेज हवाओं के साथ जोरदार बारिश हुई। आज सुबह से ही बादलों की लुका-छिपी के बाद पारे में शाम को अचानक गिरावट आई। वहीं, शाम के करीब 4.15 बजे से हवा के साथ प्रदेश के जिला राजगढ और आसपास के जिलों में बारिश हुई। वही राजधानी भोपाल में शाम 5.30 बजे के करीब तेज बारिश शुरू हो गई। शाम को कलेक्ट्रेट के सामने हो तेज बारिश होने के कारण जाम की स्थिति बनी रही।

 

[MORE_ADVERTISE1]
[MORE_ADVERTISE2]

दो दिन बन सकती है बूंदाबांदी की स्थिति
मौसम वैज्ञानिक एके शुक्ला ने बताया कि 'महा' चक्रवात कमजोर हो गया है, इसके गुरुवार शाम को डीप डिप्रेशन में तब्दील होने की उम्मीद है। कमजोर होने के कारण अब इसका असर सौराष्ट्र में ही रहेगा, मध्य प्रदेश में थोड़ा बहुत असर पड़ सकता है। इसके कारण गुरुवार और शुक्रवार को बादलों के साथ हल्की बूंदाबांदी की स्थिति बन सकती है। खासकर इंदौर, उज्जैन आदि स्थानों पर बूंदाबांदी होने की संभावना है, भोपाल में भी बूंदाबांदी हो सकती है। इसके बाद शनिवार से मौसम खुलने लगेगा और इसके बाद धीरे-धीरे तापमान में गिरावट का दौर शुरू हो सकता है।

 

[MORE_ADVERTISE3]तेज ह​वाओं के साथ जोरदार बारिश, दो दिन बनी रह सकती है बूंदाबांदी की स्थिति,देखें वीडियो

 

तापमान में गिरावट आने की संभावना
राजधानी में गुरूवार को भी आंशिक बादलों के साथ-साथ धूप खिली रही। 'महा' चक्रवात के कारण बड़ी मात्रा में नमी प्रदेश में आ रही है, इसके कारण उमस और गर्मी जैसी स्थिति भी बन रही है। तापमान में कोई खास उतार चढ़ाव नहीं रहा।

 

तापमान की स्थिति इसी तरह रहेगी
गौरतलब है कि बुधवार को अधिकतम तापमान 30.3 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम 19 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था, जबकि मंगलवार को अधिकतम तापमान 30.8 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम 19.4 डिग्री सेल्सियस रहा था। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि फिलहाल एक दो दिन तापमान की स्थिति इसी तरह रहेगी। नौ नवंबर के बाद धीरे-धीरे तापमान में गिरावट आने की संभावना है।