स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अब अलग-अलग एजेंसियों से टुकड़ों में पूरी कराएंगे मास्टर प्लान रोड, 6 लाख से अधिक लोगों को राहत की उम्मीद

Devendra Sharma

Publish: Oct 21, 2019 15:44 PM | Updated: Oct 21, 2019 15:44 PM

Bhopal

भोपाल मास्टर प्लान की सडक़ें अब टुकड़ों में पूरी होगी। सडक़ के विवादित हिस्से को छोडऩे के बाद जो सडक़ बची हुई है, उसके निर्माण का प्रस्ताव तैयार हो रहा है। कुल 22 सडक़ों पर विवाद की स्थिति है और ये सडक़ें अब तक पूरी नहीं हो पाई।

भोपाल. मध्यप्रदेश में भोपाल मास्टर प्लान की सडक़ें अब टुकड़ों में पूरी होगी। सडक़ के विवादित हिस्से को छोडऩे के बाद जो सडक़ बची हुई है, उसके निर्माण का प्रस्ताव तैयार हो रहा है। कुल 22 सडक़ों पर विवाद की स्थिति है और ये सडक़ें अब तक पूरी नहीं हो पाई। बताया जा रहा है कि यदि इन सडक़ों के अविवादित भाग का भी निर्माण पूरा हो जाता है तो शहर के अलग-अलग क्षेत्रों की छह लाख से अधिक आबादी को लाभ मिल जाएगा।

दरअसल शासन के माध्यम से टीएंडसीपी ने सभी निर्माण एजेंसियों को मास्टर प्लान रोड से जुड़ा प्रस्ताव बनाकर लाने के निर्देश दिए हैं। भोपाल में बीडीए, नगर निगम, सीपीए, पीडब्ल्यूडी मास्टर प्लान रोड निर्माण का प्रस्ताव बना रहे हैं। निर्देश में कहा गया है कि एजेंसियां खुद तय करें निर्माण कैसे करना है। संभवत: इस पखवाड़े में तय हो जाएगा कौन सी एजेंसी मास्टर प्लान रोड के किस हिस्से का काम पूरा करेगी। सीपीए के अधीक्षण यंत्री जवाहरसिंह का कहना है कि प्रस्ताव तैयार कराया जा रहा है। जल्द बताएंगे कौन सी रोड हम बना रहे हैं। निगम के सिविल सिटी इंजीनियर पीके जैन का कहना है कि शहर के अंदरूनी क्षेत्रों को जोडऩे वाली रोड का हिस्सा तैयार करेंगे।
मास्टर प्लान रोड पर विवादों की बात करें तो कटारा हिल्स क्षेत्र में मास्टर प्लान की सडक़ पर एक निजी कॉलोनी की बाउंड्री वॉल से काम अटका रहा। टीएंडसीपी ने निगम को पत्र लिखकर बाउंड्रीवॉल हटाने का कहना पड़ा। 2013 के एक सर्वे में मास्टर प्लान की 22 सडक़ों पर अतिक्रमण मिला था। सर्वे में चिन्हित अतिक्रमण अब तक नहीं हटाया गया। अतिक्रमण हटाने को लेकर कोई रिपोर्ट भी तैयार नहीं की गई। बीडीए मास्टर प्लान 11 सडक़ों की सूची तैयार करके बैठा है, जिन्हें लोगों की सुविधा के अनुसार जल्द बनाना जरूरी है। स्थिति ये हैं कि मास्टर प्लान रोड पर कहीं श्मशान बन गए तो कहीं प्लॉट काटकर कॉलोनियां विकसित कर दी गई।

ऐसे समझे मास्टर प्लान रोड के हाल

- 4.47 किमी लंबी व 45 मीटर चौड़ी सिंगारचोली रेलवे क्रॉसिंग से बैरसिया रोड पर अवैध कॉलोनियां
- 5.27 किमी लंबी व 60 मीटर चौड़ी हबीबगंज अंडरब्रिज से मिसरोद रोड पर झुग्गियां व श्मशान

- 1.56 किमी लंबी व 24 मीटर चौड़ी ओरा मॉल से शाहपुरा सी सेक्टर तक मास्टर प्लान रोड पर प्लॉट कट गए
- 4.35 किमी लंबी व 24 मीटर चौड़ी रेलवे प्लेटफार्म 1 से भानपुर तक रेलवे की कोच फैक्ट्री की जमीन

नोट- ये कुछ उदाहरण है।

मास्टर प्लान में 32 सडक़ें
भोपाल मास्टर प्लान में 32 प्रमुख सडक़ों के निर्माण से शहर विकास का दावा है। बीते मास्टर प्लान से बरकरार है, लेकिन दिक्कतों की वजह से इनका निर्माण नहीं हुआ। एसओएस खजूरीकलां से रायसेन रोड मास्टर प्लान रोड पर ही नर्सरी और मैरिज गार्डन विकसित है। इसी तरह स्वामी विवेकानंद स्कूल से क्रिस्टल आयडियल सिटी तक, कोलार में केरवा रोड से मंदाकिनी मैदान के आगे तक और दानापानी रेस्टोरेंट से मीरा नगर होते हुए होशंगाबाद रोड का नक्शा भी कब्जों के चलते बिगड़ा हुआ है। खजूरीकलां से पिपलानी पेट्रोल पंप के बीच इस सडक़ पर कब्जे के चलते 60 हजार से अधिक आबादी परेशान है। प्रमुख सचिव नगरीय विकास एवं आवास संजय दुबे के अनुसार रोड बनवाकर लोगों को अधिकतम राहत देना उद्देश्य है।