स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इंदौर के बाद भोपाल में भी खुलेगा एयर कार्गो हब, सालाना 12.5 करोड़ का बिजनेस बढ़ने की उम्मीद

KRISHNAKANT SHUKLA

Publish: Jul 20, 2019 10:36 AM | Updated: Jul 20, 2019 10:36 AM

Bhopal

एयर कार्गो हब के लिए एनएसएस से वापस ली 17 एकड़ जमीन
इंदौर के बाद भोपाल से सालाना 12.5 करोड़ का बिजनेस बढऩे की संभावना

भोपाल. मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में एयर कार्गो हब ( Air cargo hub ) बनने से सालाना 12.5 करोड़ का बिजनेस बढऩे की संभावना है। इससे भोपाल एवं आसपास की औद्योगिक इकाइयों से सालाना 1660 टन माल फ्लाइट्स से अन्य राज्यों को भेजा रहा है। इंदौर में यह आंकड़ा 10 हजार टन तक है।

वहां इंटनरेशनल कार्गो के लिए कस्टम क्लीयरेंस की सुविधा है, जो भोपाल में नहीं है। ऐसे में व्यापारियों को पहले इंदौर के लिए माल बुक करना पड़ता है। भोपाल से कार्गो सेवा शुरू होने से एयरलाइंस कंपनियों के रेट्स पर भी असर पड़ेगा। अधिक बुकिंग होने से एयरलाइंस कंपनियों का सालाना 12.5 करोड़ रुपए के बिजनेस में बढ़ोतरी होगी। इससे व्यापारियों को राहत मिलेगी।

एनएसएस की 17 एकड़ जमीन का आवंटन निरस्त

राजधानी में एयर कार्गो हब के लिए एनएसएस की 17 एकड़ जमीन का आवंटन निरस्त कर एयरपोर्ट को दी जाएगी। गौरतलब है कि 28 जून को मंत्रालय में हुई बैठक में दो महीने में राजा भोज एयरपोर्ट से एयर कार्गो शुरू करने पर सहमति बनी थी।

जिला प्रशासन को एयरपोर्ट परिसर में 50 एकड़ जमीन देनी थी। वहां इतनी खाली भूमि नहीं होने पर तय किया गया कि एयरपोर्ट से सटी जमीन पर ही एयर कार्गो हब बनाया जाएगा। अब एनएसएस और पुराने एयरपोर्ट की करीब 20 एकड़ जमीन और भौंरी में एयर कार्गो बनाने का प्रस्ताव शासन के पास भेजा है।

एयरपोर्ट के पास एनएसएस की 17 एकड़ जमीन का आवंटन निरस्त किया है। इसका उपयोग एयर कार्गो हब के लिए किया जाएगा। इसके अलावा भौंरी में भी 25 एकड़ जमीन चिह्नित की है। ये दोनों प्रस्ताव शासन को भेजे जा रहे हैं। - तरुण पिथोड़े, कलेक्टर

एयरपोर्ट पर मिल सकेगी ये सुविधा

एयर कार्गो शुरू होने से दवा उत्पादकों का 30 टन माल अन्य शहरों को जाएगा। टेक्सटाइल इंडस्ट्रीज का हर माह 20 टन कार्गो निर्यात और इतना ही आयात आसान होगा। फल-सब्जियों को दिल्ली-मुंबई समेत अन्य शहरों में भेजना भी आसान होगा।

गो एयर को मिल सकते हैं जेट एयरवेज के खाली पड़े चार स्लॉट

राजा भोज एयरपोर्ट पर तीन महीने से खाली चार स्लॉट गो एयरवेज को मिल सकते हैं। एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने भोपाल से उड़ान भरने वाले पैसेंजर की संख्या की अध्यन रिपोर्ट जारी की है। इसके मुताबिक जनवरी 2018 से जुलाई 2019 के बीच भोपाल से अन्य शहरों के लिए उडऩे वाले यात्रियों की संख्या 66 हजार से सवा लाख हो गई है। एयरपोर्ट प्रबंधन ने रनवे विस्तार के साथ नया टर्मिनल बनाने का काम तेज है।

केन्द्रीय मंत्रालय बांटेगा फ्लाइंग राइट्स

केंद्रीय विमानन मंत्रालय एवं डीजीसीए की ओर से जेट एयरवेज को भोपाल में 4 व इंदौर एयरपोर्ट पर 18 स्लॉट अलॉट थे। जेट बंद होने के बाद इन स्लॉट के साथ फ्लाइंग राइट्स भी अब प्राइवेट कंपनियों में बांटे जाएंगे। एएआई और केंद्रीय मंत्रालय ने प्राइवेट एयरलाइंस को इन एयरपोर्ट से फ्लाइट शुरू करने के ऑफर जारी कर दिए हैं।