स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हरियाणा: ऑनलाइन बिल्डिंग प्लान मंजूरी की प्रक्रिया ने पकड़ी रफ्तार, 1824 नक्शे हुए पास

Prateek Saini

Publish: May 31, 2019 16:54 PM | Updated: May 31, 2019 16:54 PM

Bhiwani

मानवीय हस्तक्षेप कम करते हुए पारदर्शी व्यवस्था लाने की मंशा से लागू की गई है योजना...

 

(चंडीगढ,भिवानी): व्यवस्था में पारदर्शिता लाने और मानवीय हस्तक्षेप कम करते हुए आमजन को घर बैठे रिहायशी, कमर्शियल नक्शे प्राप्त हो सकें, इसके लिए हरियाणा ऑनलाइन बिल्डिंग प्लान अपू्रवल सिस्टम ने रफ्तार पकड ली है। पालिका, नगर एवं अभियोजन विभाग और एचएसआईआईडीसी के नक्शा मंजूरी के लिए जहां 554 विशेषज्ञ, आर्किटेक्ट जुड चुके हैं, वहीं अब तक 1824 नक्शों को मंजूरी भी प्रदान की जा चुकी है।

 

शहरी स्थानीय निकाय मंत्री कविता जैन ने बताया कि प्रदेश के शहरी इलाकों में हरियाणा बिल्डिंग कोड के अनुरूप भवनों के निर्माण सुनिश्चित करने के लिए प्रक्रिया में एकरूपता लाने के लिए हरियाणा ऑनलाइन बिल्डिंग प्लान अपू्रवल सिस्टम तैयार किया गया था। यह सिस्टम आमजन को बिचौलिया तंत्र से राहत दिलाने और समय की बर्बादी की बजाय पाबंद समय में आवेदक को उसके नक्शे की मंजूरी प्रदान करे, इसके लिए इसे प्रभावी बनाने की प्रक्रिया नवंबर से ही शुरू की गई थी।


पहले चरण में तय दिशा-निर्देशा के अनुसार आवेदन होना सुनिश्चित हो, इसके लिए पालिकाओं के अधिकारी, कर्मचारियों के साथ-साथ आर्किटेक्ट, विशेषज्ञों को विभागों के साथ संबद्ध करने की प्रक्रिया एवं प्रशिक्षण प्रारंभ किए गए। इसमें अब तक 33 बार प्रशिक्षण करवाए जा चुके हैं और नगर एवं अभियोजन विभाग में ऑनलाइन सिस्टम के लिए 261, एचएसआईआईडीसी में 71 तथा शहरी स्थानीय निकाय विभाग में 222 प्रोफेशनल, आर्किटेक्ट अब तक संबद्ध हो चुके हैं, जबकि 174 आवेदन अब भी प्रक्रिया में हैं।

 

मंत्री कविता जैन ने बताया कि शुरूआती चरण में आमजन के साथ-साथ पालिका अधिकारियों को भी ऑनलाइन सिस्टम को समझने में थोडा परेशानी आई, लेकिन अब ऑनलाइन नक्शा आवेदन प्रक्रिया और नक्शे की मंजूरी मिलने की प्रक्रिया ने रफ्तार पकड ली है। उन्होंने बताया कि अब तक पालिका में 3333 नक्शे मंजूरी के आवेदन आए हैं, जिसमें से 1824 आवेदन मंजूर होने के बाद नक्शे सर्टिफिकेट जारी हो चुके हैं। 718 आवेदन नक्शे मंजूरी की प्रक्रिया में हैं, जबकि 749 नक्शे आवेदन जांच-पडताल की प्रक्रिया में हैं। उन्होंने कहा कि पूर्व में नक्शा मंजूर कराने की प्रक्रिया पर बिचौलिया प्रवृति के लोगों द्वारा हस्तक्षेप करने की संभावना अधिक बनी रहती थी, इसमें आवेदक को समय और धन का नुकसान उठाना पडता था और नक्शे मंजूरी में होने वाली देरी के कारण लोग अवैध निर्माण कर लेते थे। लेकिन ऑनलाइन प्रक्रिया ऐसी व्यवस्था पर शिकंजा कसेगी और आमजन को बडी राहत प्रदान करेगी।