स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

तीन दशक बाद एक मंच पर होगा देवीलाल व चरण सिंह का परिवार

Prateek Saini

Publish: Apr 16, 2019 07:00 AM | Updated: Apr 15, 2019 19:23 PM

Bhiwani

जयंत चौधरी के साथ मथुरा में रोड-शो करेंगे दुष्यंत चौटाला...

 

(भिवानी,संजीव शर्मा): तीन दशक से चौधरी चरण सिंह और चौधरी देवी लाल के परिवार के बीच चल रही राजनीतिक लडाई अब खत्म होने की कगार पर है, ऐसा प्रतीत हो रहा है। इस दिशा में दोनों परिवारों के नौजवानों ने बड़ा कदम बढाया है। देवी लाल के परिवार की ओर से जननायक जनता दल के संस्थापक दुष्यंत चौटाला और चरण सिंह के घर से रालोद नेता जयंत चौधरी की अगुवाई में दोनों परिवारों के बीच चल रही खटास को दूर करने के प्रयास किए जा रहे है। इसी कड़ी में दुष्यंत चौटाला आज उत्तर प्रदेश की मथुरा लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे रालोद प्रत्याशी कुंवर नरेंद्र सिंह के समर्थन में प्रचार करेंगे। इस प्रचार में उनके साथ रालोद नेता जयंत चौधरी भी मंच साझा करेंगे। हरियाणा व यूपी की सियासत में इसे बड़ा फैसला माना जा रहा है। तीन दशक बाद स्व.चौधरी चरण सिंह और स्व.चौ.देवीलाल का परिवार एक मंच पर होगा। दुष्यंत व जयंत मथुरा में 15 से अधिक गांवों में रोड-शो और नुक्कड़ सभाएं करने का कार्यक्रम तय किया है।

 

chaudhary

सूत्रों का कहना है कि जयंत चौधरी और दुष्यंत के बीच पिछले तीन-चार वर्षों से काफी नजदीकियां बढ़ी हुई हैं। इन दोनों सियासी घरानों को फिर से एक मंच पर लाने का प्रयास भी दोनों की तरफ से ही हुआ है। बेशक, इसकी शुरूआत दुष्यंत कर रहे हैं, लेकिन बहुत संभव है कि हरियाणा में जेजेपी के लिए जयंत चौधरी भी प्रचार करने के लिए पहुंचे। यूपी में रालोद महागठबंधन यानी सपा-बसपा के साथ मिलकर ही चुनाव लड़ रहा है। तीन दशक पूर्व चौ.चरण सिंह और देवीलाल के बीच काफी गहरे राजनीतिक रिश्ते थे। दोनों एक ही पार्टी में हुआ करते थे, लेकिन बाद में विवाद गहरा गया। यही नहीं, दोनों की पार्टियों ने एक-दूसरे के विरूद्ध चुनाव भी लड़ा। सियासी विवाद इतना गहरा गया कि उत्तरी भारत के इन दोनों किसान नेताओं के बीच संवाद तक बंद हो गया।


चरण सिंह के बेटे अजीत सिंह और देवीलाल पुत्र ओमप्रकाश चौटाला के बीच भी राजनीतिक बातचीत नहीं हो सकी। अब एक बार फिर चरण सिंह और चौ. देवीलाल परिवार के एक होने की उम्मीद बढ़ गई हैं। चौटाला परिवार और इनेलो में हुए बिखराव के बाद जेजेपी अस्तित्व में आई है। जेजेपी का यह पहला आमचुनाव होगा। इससे पूर्व इसी वर्ष जनवरी में हुए जींद उपचुनाव में जेजेपी ने दिगविजय सिंह चौटाला को चुनाव मैदान में उतारा था। जींद में जेजेपी प्रत्याशी दूसरे नंबर पर रहा, लेकिन अब लोकसभा चुनावों में पार्टी अपने वजूद की लड़ाई लड़ेगी।