स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

खाना बनाती हुई महिला की मौत का कारण बनी बस, खबर पढक़र चौंक जाएंगे आप

Gaurav Sen

Publish: Sep 20, 2019 17:39 PM | Updated: Sep 20, 2019 17:39 PM

Bhind

woman death in house by hit of bus: जानकारी के अनुसार मुरैना से श्योपुर की ओर जाने वाली सुपरफास्ट यात्री बस सुबह तेज रफ्तार में एमएस रोड पर चल रही थी।

सबलगढ़. तेज रफ्तार में चल रही रही यात्री बस अनियंत्रित होकर एक मकान में जा घुसी, जिसमें एक महिला की मौत हो गई जबकि पांच अन्य लोग घायल हो गए। हादसे के बाद आक्रोशित लोगों ने सबलगढ़-टेंटरा मार्ग पर करीब ६ घण्टे चक्काजाम किया। इस दौरान आवागमन पूरी तरह ठप रहा।

जानकारी के अनुसार मुरैना से श्योपुर की ओर जाने वाली सुपरफास्ट यात्री बस सुबह तेज रफ्तार में एमएस रोड पर चल रही थी। सवा सात बजे जब बस खोह गांव के पास पहुंची तो चालक ने संतुलन खो दिया और वह सामने स्थित विजय कुशवाह व ओमप्रकाश कुशवाह के मकान में जा घुसी। उस वक्त ओमप्रकाश की पत्नी माया घर में खाना बना रही थी। इसके अलावा विजय सिंह की पत्नी श्रीकांता भी घर में ही मौजूद थी। ये दोनों बस और मकान के मलबे के नीचे दबकर गंभीर रूप से घायल हो गईं।

इसके अलावा बस में सवार पिंकी पत्नी विष्णु वैश्य निवासी श्योपुर, विष्णु पुत्र द्वारिकाप्रसाद वैश्य श्योपुर, नारायण पुत्र भगवानलाल गौड़ निवासी सबलगढ़ तथा भास्कर पुत्र महेश ब्राह्मण भी घायल हो गए। घायलों में से माया कुशवाह व पिंकी वैश्य को उपचार के लिए सबलगढ़ से रैफर कर दिया, जहां कुछ ही देर बाद माया की मौत हो गई। हादसे के बाद ग्रामीणों ने सबलगढ़-टेंटरा मार्ग जाम कर दिया। इसके अलावा उन्होंने नहर वाली सडक़ पर भी आवागमन रोक दिया। इस वजह से सडक़ वाहनों का आवागमन थम गया।

मौके से भागा बस चालक
यात्री बस के मकान में घुसते ही उसका ड्रायवर नीचे उतरा और मौके से भाग निकला। कुछ ही देर में घटनास्थल पर पहुंचे ग्रामीणों ने मलबे में दबी माया व श्रीकांता को बाहर निकाला और निजी वाहन से अस्पताल पहुंचाया। इसके अलावा घायल बस यात्रियों को भी उपचार के लिए अस्पताल पहुंचाया। कुछ लोगों का कहना रहा कि सडक़ पर गड्ढों की वजह से बस अनियंत्रित हो गई थी। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि मकान का मलबा कांच तोड़ता हुआ बस के अंदर तक जा पहुंचा।

ये मांग कर रहे थे ग्रामीण
सडक़ पर जाम लगा तो एसडीएम एलके पाण्डे, एसडीओपी महेन्द्र कुमार शर्मा, तहसीलदार अजय शर्मा, रामपुर थाना प्रभारी धर्मेन्द्र गौड़, टेंटरा थाना प्रभारी संजय किरार व पटवारी रवि बंजारा सहित कांग्रेस नेता कमल रावत व भाजपा नेत्री सरला रावत मौके पर पहुंच गईं। ग्रामीण इस मामले में मुख्यमंत्री सहायता कोष से सहायता दिए जाने, क्षतिग्रस्त मकान की जगह दूसरा आवास दिलाए जाने सहित अन्य मांगें कर रहे थे। इस पर एसडीएम ने रेडक्रॉस से १०-१० हजार की सहायता स्वीकृत करतेे हुए कहा कि ग्राम पंचायत के ठहराव प्रस्ताव के आधार पर पीडि़त पक्ष को प्रधानमंत्री आवास दिलाने का प्रयास करेंगे। इसी तरह मुख्यमंत्री सहायता कोष से सहायता के लिए भी प्रस्ताव भेजने की बात अधिकारियों ने कही। तब जाकर दोपहर २ बजे ग्रामीण जाम खोलने को तैयार हुए।