स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इस जिले में फर्जी वोटर्स की संख्या हजारों में, अधिकारियों की नाक के नीचे हो रहा फर्जीवाड़ा

Gaurav Sen

Publish: Sep 08, 2019 16:02 PM | Updated: Sep 08, 2019 16:02 PM

Bhind

fake voter ids list in bhind district: अभी तक वार्ड 11 और 12 की सूची सामने आई है। इसमें 70 से अधिक नाम ऐसे है जो दोनो वार्डो में है। जबकि उनका निवास इनमें से एक ही वार्ड में है। इसी प्रकार सूची में 82 ऐसे नाम हैं जिनका कोई पता ठिकाना ही नहीं है। स्थानीय लोगों का अनुमान है कि चुनाव जीतने के लिए ये नाम जुड़वाए गए हैं।

 

 

फूप. नगर परिषद फूप की प्रकाशित सूची में खासी गड़बड़ी है। दो वार्डो की सूचियों में ही ढाई सौ से अधिक वोट फर्जी सामने आए है। सभी 15 वार्डो में यह संख्या 2 से ढाई हजार तक पहुंचने की संभावना है। नगर परिषद अध्यक्ष ने इस संबंध में कलेक्टर से शिकायत कर सुधार की गुहार लगाई है।

अभी तक वार्ड 11 और 12 की सूची सामने आई है। इसमें 70 से अधिक नाम ऐसे है जो दोनो वार्डो में है। जबकि उनका निवास इनमें से एक ही वार्ड में है। इसी प्रकार सूची में 82 ऐसे नाम हैं जिनका कोई पता ठिकाना ही नहीं है। स्थानीय लोगों का अनुमान है कि चुनाव जीतने के लिए ये नाम जुड़वाए गए हैं। 40 ऐसे नाम मतदाता सूची में पाए गए हैं जो सालों पूर्व मृत हो चुके हैं। डोर टूडोर जानकारी लेने के बाद भी मृतकों के नाम सूची से कटाए नहीं गए है। एक सैकड़ा से अधिक नाम विवाहिता लड़कियों के है जो शादी होने के बाद सालों पहले फूप से ससुराल पहुंच गई है उनके नाम ससुराल की मतदाता सूची में है।

इसके अलावा सालों पहले पलायन कर कस्बा छोड़ चुके परिवारों के नाम भी मतदाता सूची में दर्ज है। लोकसभा चुनाव के दौरान फूप में मतदाताओं की संख्या 8400 है जो अब बढकऱ 10500 के ऊपर पहुंच गई है।

Gwalior Jail : जेल में बंदी तय करते पसंदीदा पुलिसकर्मी का नाम, पेशी पर वही फोर्स होता तैनात

एक वोटर के चार-चार स्थानों पर दर्ज हैं नाम

वार्डनं.12 निवासी धर्मेद्र शिवहरे का मतदाता सूची के सरल क्रं. 138,139,190,195 पर चार स्थानों पर नाम है। इसी प्रकार बालस्टरसिंह का 298,292,293,294 पर नाम हैं। अभिषेक सिंह का नाम 295,296,297,298 पर है। विनीता ओझा का नाम 776,776,778 पर तीन स्थानों पर नाम दर्ज है।भावना का नाम 222,786,787 पर है। ये स्थिति कई लोगोंं के साथ है। प्रकाश पुत्रमेवाराम का निधन दो साल पहले हो गया है इसके बाद भी उनका नाम छोड़ दिया गया है। मुंशीलाल पुत्र रामाधार का निधन पांच साल पहले हो चुका है फिर भी उनका नाम सूची मेंं है। विनीता ओझा, मनोरमा तिवारी, सुमित का घर वार्ड 12 में नहीं इसके बाद भी इनका नाम सूची में है। ऐसे लोग सैकड़ों की संख्या में है। वार्ड 11 की सूची में भी इसी प्रकार की गड़बडिय़ां सामने आई है।

जो भी गड़बडिय़ां सामने आई है। प्रमाण सामने आने के बाद इन नामों को हटा दिया जाएगा। रजिस्ट्रीकरण अधिकारी को इस संबंध में अवगत करा दिया है।
मो.इकबाल एसडीएम भिण्ड

दो वार्डो की मतदाता सूची देखी है। इसमें 250 वोट हटाने योग्य हैं। कस्बे में दो हजार से अधिक नाम फर्जी होने की संभावना है। कलेक्टर से चर्चा हुई है उन्होंने सुधार कराने का भरोसा दिलाया है।
संतोष शर्मा अध्यक्ष नपा परिषद फूप