स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

90 दिन में लिए 143 सैंपल, रिपोर्ट आई महज 16 की

Rajeev Goswami

Publish: Oct 20, 2019 11:11 AM | Updated: Oct 19, 2019 23:12 PM

Bhind

छापामारी के दौरान नायब तहसीलदार से मुंहवाद, शनिवार को आलमपुर हुई सैंपलिंग, चार नमूने भी लिए

आलमपुर/ भिण्ड. जिले में गुजरे 90 दिनों में खाद्य नियंत्रण विभाग के अमले द्वारा 143 सैंपल लिए जा चुके हैं। इनमें अभी तक महज 16 सैंपल की जांच रिपोर्ट भोपाल की प्रयोग शाला आई है जिसमें 14 फेल हो गए हैं जबकि दो सैंपल पास भी हुए हैं। जिले भर में कार्यवाही के लिए बड़ा क्षेत्र है लेकिन खाद्य एवं औषधीय नियंत्रण विभाग में स्टाफ की कमी के चलते कार्यवाही व्यापक स्तर पर नहीं हो पा रही है। शनिवार को आलमपुर कस्बे में खाद्य विभाग की टीम ने छापामारी की। कार्रवाई की भनक लगते ही जहां कई दुकानदार अपने-अपने प्रतिष्ठान बंद कर भाग गए तो वहीं एक ऑयल मिल पर कार्रवाई के दौरान नायब तहसीलदार से बहसा-बहासी हुई लेकिन बाद में मामल शांत हो गया।

जानकारी के अनुसार खाद्य निरीक्षक राजेश गुप्ता एवं बृजेश शिरोमणि के अलावा स्थानीय नायब तहसीलदार रमाशंकर जाटव ने सुबह 9:30 बजे संयुक्त रूप से छापामार कार्यवाही की। इस दौरान टीम ने बस स्टैण्ड इलाके में संचालित दूध डेयरी पर करीब 200 लीटर दूध पाया]

जहां से दूध के अलावा मौजूद मिले अन्य खाद्य पदार्थों के भी सैंपल लिए। तदुपरांत मुख्य बाजार में संचालित गुप्ता मिष्ठान की दुकान से भी मिठाईयों के सैंपल लिए गए। इसी दौरान एक ऑयल मिल पर छापामार कार्यवाही के दौरान मिल पर मौजूद लोगों से नायब तहसीलदार से बहसा बहसी हुई। बाद में सैंपल लिए जाने के बाद मामला शांत हो गया।

खाद्य सामग्री बनाने वाले नहीं पहुंच पा रहा अमला

विदित हो कि जिले भर में जहां एक दर्जन से अधिक बेकरियां संचालित हैं वहीं इतनी ही संख्या में पेठा एवं नमकीन बनाने वाले कारखाने भी चल रहे हैं। हैरत की बात ये है कि अमले द्वारा अभी तक एक भी कारखाने पर छापामार कार्यवाही नहीं की गई है। दूषित माहौल में खाद्य सामग्री तैयार कर विभिन्न प्रकार के नामचीन ब्राण्ड के रेपर में उसे पैक करने का काम भी किया जा रहा है। इतना ही नहीं गर्मियों के दिनों में कोल्डड्रिंक भी बड़े पैमाने पर हानिकारक एसेंस मिश्रित कर तैयार कर शहर की दुकानों पर खपाई जा रही है।

कार्यवाही की खबर सुन भागे दुकानदार

विदित हो कि शनिवार सुबह जैसे ही बाजार में खाद्य एवं औषधीय विभाग के अमले के साथ स्थानीय नायब तहसीलदार व राजस्व निरीक्षक की संयुक्त छापामार कार्यवाही किए जाने की भनक लगी तो अधिकांश दुकानदार शटर डालकर गायब हो गए। कस्बे में कुछ देर के लिए सन्नाटा पसर गया। हालांकि टीम के रवाना होने के उपरांत दुकानें फिर से खुल गईं।

कड़ी कार्रवाई का अभाव

यहां बतादें कि अधिकांश सैंपल जांच के दौरान फेल होने के बाद भी संबंधित मिलावट खोर पर कड़ी कार्रवाई नहीं की जाती है। लिहाजा वह अपने मिलावट खोरी के गोरखधंधे को निरंतर जारी बनाए रखते हैं।

-खाद्य एवं पेय सामग्री तैयार करने एवं विक्रय करने वाले प्रतिष्ठानों पर निरंतर छापामार कार्यवाही की जा रही है। आगे भी कार्यवाही सतत रूप से जारी रखेंगे।

रीना बंसल, निरीक्षक खाद्य एवं औषधीय विभाग भिण्ड

-तेल मिल पर सैंपलिंग के दौरान मुंहवाद हुआ था। बाद में समझाइश के बाद मामला शांत हो गया। हम अपनी कार्यवाही को अंजाम देकर ही लौटे हैं।

रमाशंकर जाटव, नायब तहसीलदार आलमपुर