स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मुख्यमंत्री के लिए क्या बोल गए देवनानी

Suresh Jain

Publish: Dec 05, 2019 21:10 PM | Updated: Dec 05, 2019 21:10 PM

Bhilwara

मुख्यमंत्री सीट बचाने के लिए लगा रहे दिल्ली की दौड़-देवनानी
- पूर्व शिक्षा मंत्री बोले- सरकार कर्मचारियों में डर पैदा कर रही

भीलवाड़ा।
SMM Girls College Students' Union Opening मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कुर्सी बचाने के लिए बार-बार दिल्ली की दौड़ लगाते हैं। या फिर उप मुख्यमंत्री को निपटाने के अलावा उनके पास समय नहीं है। प्रदेश में महिलाओं पर अत्याचार बढ़ रहे हैं।
SMM Girls College Students' Union Opening पूर्व शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने गुरुवार को यहां एसएमएम गल्र्स कॉलेज के छात्रसंघ उद्घाटन समारोह में हिस्सा लेने के बाद मीडिया से यह बात कही। उन्होंने कहा कि सरकार ने कर्मचारियों पर अघोषित आपातकाल लगा दिया है। संविधान में साफ है कि कोई नागरिक किसी भी सामाजिक संगठन में शामिल हो सकता है। आरएसएस सामाजिक संगठन है। सरकार एेसे कर्मचारियों की सूची मांग भय पैदा करना चाहती है। सरकार नाकामी छिपाने के लिए एेसे हथकंडे अपना रही है।

साइकल पर फिर काला रंग करने के मामले में देवनानी ने कहा कि साइकिल का रंग भगवा करने के पीछे दो कारण थे। काले रंग की साइकिल की कोई पहचान नहीं थी। इस रंग से त्याग व समर्पण का संस्कार मिलता है। कांग्रेस सरकार ने साइकिल महंगी बता रंग काला करवा दिया। इससे साइकिल के दाम सौ रुपए और बढ़ गए हैं।

देवनानी ने कहा कि भाजपा सरकार ने आजादी के आंदोलन को लेकर पाठ्यक्रम में परिवर्तन किए थे। इसे ध्यान में रखते हुए वीर सावरकर का नाम पाठ्यक्रम में जोड़ा गया था, क्योंकि उन्हें दो बार आजीवन कारावास की सजा मिली थी। कांग्रेस सरकार ने वीर सावरकर के आगे वीर व महापुरुष शब्द हटा दिया जो निंदनीय है।

प्रदेश में विकास के सभी काम ठप
देवनानी ने कहा कि सरकार विकास के नाम पर छलावा कर रही है। बजट घोषणा के काम अधूरे हैं। सवर्ण आरक्षण का श्रेय लेने का काम कर रही है, जबकि यह योजना केंद्र सरकार की है। मेडिकल कॉलेज के नाम पर सरकार वाहवाही लूटी रही है, जबकि यह योजना केंद्र की है। प्रत्येक कालेज के लिए ३२५ करोड़ का बजट केंद्र से मिलता है। विद्यालय में कमरे बनाने के लिए 350 करोड़ का बजट केन्द्र मिला, वह बैंक में पड़ा है। पीडब्ल्यूडी १८०० करोड़ रुपए विकास के रोक रखे हैं।

[MORE_ADVERTISE1]