स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सांसद नहीं पहुंचे रेलवे मिटिंग में, पहुंच गई पर उनकी बात

Narendra Kumar Verma

Publish: Sep 21, 2019 12:37 PM | Updated: Sep 21, 2019 12:37 PM

Bhilwara

कोटा में पश्चिम मध्य रेलवे के अधिकारी और कोटा रेल मंडल से जुड़े सांसदों की बैठक शुक्रवार को हुई। इसमें १३ सांसदों को बुलाया गया, लेकिन दो सांसद ही आए।

भीलवाड़ा। कोटा में पश्चिम मध्य रेलवे के अधिकारी और कोटा रेल मंडल से जुड़े सांसदों की बैठक शुक्रवार को हुई। इसमें १३ सांसदों को बुलाया गया, लेकिन दो सांसद ही आए। शेष सांसदों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। भीलवाड़ा सांसद सुभाष बहेडि़या की अनुपस्थिति में उनके प्रतिनिधि राजकुमार आंचलिया ने संसदीय क्षेत्र के रेलवे मुद्दे बैठक में उठाए। माना जा रहा है कि गत बैठक में सांसदों की ओर से जो मांगें की गई, उनके गोलमोल जवाब आए।

टोंक-सवाईमाधोपुर सांसद सुखवीरसिंह जौनापुरिया और भरतपुर सांसद रंजीता कोली ने कई मुद्दे उठाए और रेल प्रशासन की कोताही की ओर ध्यान आकर्षित किया। सांसद कोली ने कहा, जनता की समस्याएं अधिकारियों को बताते हैं तो रेस्पॉन्स नहीं मिलता। आठ संसद सदस्यों के सांसद प्रतिनिधि भी बैठक में उपस्थित हुए।

कोटा-बूंदी के सांसद एवं लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला की ओर से लव शर्मा, चित्तौडगढ़़ सांसद चन्द्रप्रकाश जोशी की की ओर से विकास शर्मा, झालावाड़ सांसद दुष्यन्त सिंह के प्रतिनिधि धीरज गुप्ता ने भाग लिया। मंदसौर के सांसद सुधीर गुप्ता के प्रतिनिधि राजदीप, उज्जैन सांसद अनिल फि रोजिया के प्रतिनिधि महेन्द्र गुप्ता, राज्यसभा सदस्य थावरचन्द गहलोत के प्रतिनिधि नंदन जैन, मथुरा सांसद हेमा मालिनी के प्रतिनिधि अनिल मालवीय उपस्थित हुए। सांसद जौनपुरिया ने सुरक्षा के लिए सवाईमाधोपुर में सीसीटीवी कैमरे लगाने और वाइफाइ की मांग रखी। सांसद कोली ने नन्दादेवी एक्सप्रेस का उनके क्षेत्राधिकार के प्रमुख स्टेशनों पर ठहराव तथा भरतपुर में यात्री सुविधाएं बढ़ाने की बात रखी। रेलवे महाप्रबंधक अजय विजयवर्गीय, डीआरएम यूसी जोशी एवं वरिष्ठ मंडल कार्मिक अधिकारी सुबोध विश्वकर्मा सहित कई अधिकारी बैठक में मौजूद रहे।

यंू रखा भीलवाड़ा का पक्ष

भीलवाड़ा सांसद बहेडि़या के प्रतिनिधि आंचलिया ने कोटा चित्तौडग़ढ़ ब्रॉडगेज रेल मार्ग स्थित बरूंदनी रेलवे प्लेटफार्म की ऊंचाई बढ़ाने की मांग उठाई। आंचलिया ने बताया कि उदयपुर से कोटा साधारण रेल गाड़ी चलाने, श्यामपुरा, बरूंदनी, जलीद्री रेलवे स्टेशन संपर्क सड़क बनाने, चंदेरिया से कोटा रेल मार्ग पर विद्युतीकरण व दोहरा बनाने, सराणा लोढियाणा के बीच नवनिर्मित अंडरपास से पानी की निकासी, मांडलगढ़ स्टेशन पर शालीमार-उदयपुर, अजमेर-संतरागाछी, अजमेर-भागलपुर एक्सप्रेस ट्रेन के ठहराव की मांग उठाई। उदयपुर कोटा के बीच साधारण रेलगाड़ी आगामी वर्ष में सितंबर तक संचालित करने, मार्च 2020 तक तीनों स्टेशनों के सम्पर्क सड़क बनाने का भरोसा भी दिलाया।

पिछली बैठक में मिले गोलमाल जवाब

गत बैठक में रतलाम-कोटा, कोटा-जयपुर और जयपुर-फुलेरा पैसेंजर ट्रेनों के एकीकरण का मुद्दा झालावाड़ सांसद दुष्यंत सिंह ने उठाया था। इस पर रेलवे ने एक साल बाद जवाब दिया कि प्रकरण पर विचार किया जा रहा है। सिंह ने प्रतिनिधि धीरज गुप्ता ने कहा कि अधिकारी एक साल में स्थिति स्पष्ट तक नहीं कर पाए। ये तीनों ट्रेनें एक ही रैक से टुकड़ों-टुकड़ों में चलती हैं। ट्रेन के एकीकरण से रतलाम से फुलेरा तक सीधा आरक्षण हो सकेगा।