स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नवाचार: बदलाव हुआ तो भर गया यूआईटी का खजाना

Narendra Kumar Verma

Publish: Dec 08, 2019 12:43 PM | Updated: Dec 08, 2019 12:43 PM

Bhilwara

साल के शुरूआती माह में तंग हालात से गुजरे रहे नगर विकास न्यास के अब अच्छे दिन आए है। गत दस माह में न्यास ने ७० करोड़ की मोटी राजस्व कमाई अर्जित की है। लेकिन अब महज एक माह में न्यास से ९० करोड़ रुपए की राजस्व कमाई भूखंडों के जरिए करने की तैयारी की है। सब कुछ ठीक रहा तो न्यास का कोष भी पहली बार सौ करोड़ को पार कर जाएगी।

नरेन्द्र वर्मा

भीलवाड़ा। साल के शुरूआती माह में तंग हालात से गुजरे रहे नगर विकास न्यास के अब अच्छे दिन आए है। गत दस माह में न्यास ने ७० करोड़ की मोटी राजस्व कमाई अर्जित की है। लेकिन अब महज एक माह में न्यास से ९० करोड़ रुपए की राजस्व कमाई भूखंडों के जरिए करने की तैयारी की है। सब कुछ ठीक रहा तो न्यास का कोष भी पहली बार सौ करोड़ को पार कर जाएगी।

प्रदेश के प्रमुख निकायों में नगर विकास न्यास शुमार है, गत जनवरी २०१९ में न्यास का राजस्व कोटा महज १५ करोड़ रुपए था। इसमें भी एपीजे आवासीय योजना की कमाई ८ करोड़ रुपए शामिल थी। पट्टे जारी करने समेत कई अन्य विधि संगत कार्यों पर रोक होने से न्यास की राजस्व आय भी बढ़ नहीं पा रही थी।

सरकार बदली और न्यास सचिव नितिन्द्र सिंह ने ही पद संभालते ही न्यास की आय अर्जित करने की योजना में भी बदलाव किया। व्यवस्था बदली तो न्यास के भी दिन फिर गए। अभी ७५ करोड़ का कोषन्यास का राजस्व आंकडा बताता है कि अभी न्यास के राजस्व बैंक में करीब ७५ करोड़ रुपए की राशि जमा है और ये राशि इसी साल सौ करोड़ करने के लिए न्यास करीब ९० करोड़ रुपए की लागत के और भूखंड बेचने को तैयार है।

बदली शर्तों का बड़ा फायदा
न्यास सचिव सिंह बताते है कि न्यास के भूमि बैंक को संगठित किया गया, इसके लिए न्यास की विभिन्न आवासीय कॉलोनियों में रिक्त भूंखड़ों को सूचीबृद्ध करने के साथ ही न्यास की भूमि से अतिक्रमण हटाया गया। इस कार्ययोजना से भूमि बैंक मजबूत हुआ। नीलामी की शर्तो में बदलाव कर न्यूनतम कीमत पर भूखंडों की नीलामी शुरू की और छत का अधिकार भी दिया, जो भूखंड लम्बे समय से नहीं बिक रहे थे, उनकी कीमतों में २५ फीसदी तक कमी की गई। नेहरू आवासीय योजना के जरिए भी ऑन लाइन भूखंडों की नीलामी न्यास में पहली बार शुरू हुई और उसके सार्थक परिणाम सामने आए।

१० से फिर ऑन लाइन नीलामी
अधिशासी अभियंता रवि श्रीवास्तव ने बताया कि नीलामी शर्तो में बदलाव व ऑन लाइन नीलामी से न्यास ने गत तीन माह में भूखंडों की नीलामी के जरिए कुल ७५.२८ करोड़ रुपए की आय अर्जित की जो कि रिकार्ड है। इसी प्रकार १० दिसम्बर से विभिन्न आवासीय एवं व्यवसायिक येाजना क्षेत्र में भूखंडों की ऑनलाइन नीलामी की जाएगी। ये नीलामी इस साल की सबसे बड़ी नीलामी होगी। इसमें ९० करोड़ की लागत के १५० भूखंड शामिल किए गए है।

न्यास की अटकी योजनाओं पर होगा काम
न्यास का राजस्व कोष बढऩे के बाद मुख्यमंत्री घोषणा अनुरुप विकास योजनाओं में भी गति मिलेगी। इसमें जोधड़ास ओवरब्रिज व हाइेलेबल ब्रिज तथा पुलियाओं का निर्माण कार्य प्रमुख रूप से शामिल है। इसी प्रकार बहुद्देश्यीय परियोजना तथा उपनगर पुर के प्रभावितों के लिए आवासीय योजना के साथ ही शहर के विभिन्न निर्माण कार्य अब जल्द पूरे होंगे।

न्यास बोर्ड बैठक ११ को
मुख्यमंत्री बजट घोषणा, शहरी विकास योजना एवं मुआवजों की अटकी फाइलों के निस्तारण के लिए न्यास ने ११ दिसम्बर को बोर्ड बैठक प्रस्तावित की है। बोर्ड बैठक को लेकर प्रस्ताव व सुझाव मांगे गए है।

[MORE_ADVERTISE1]