स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आ गया फरमान, दोबारा निकलेगी लॉटरी

Suresh Jain

Publish: Jan 24, 2020 21:53 PM | Updated: Jan 24, 2020 21:53 PM

Bhilwara

मांडल, सुवाणा, हुरड़ा, आसींद व बदनोर में बदलेगी पूरी प्रक्रिया
पांच फरवरी से पहले पूरा करना होगा लॉटरी का काम

भीलवाड़ा।
Elections will be held in postponed five panchayats पंचायत चुनावों में चल रही उठापठक के बीच अब सरकार ने यह स्पष्ट कर दिया है कि जो भी पुनर्गठित ग्राम पंचायतें हैं वे यथावत रहेगी। इस कारण जिन पंचायत समितियों चुनाव स्थगित किए गए थे वहां अब दोबारा लॉटरी निकाली जाएगी। इसमें पंच-सरपंच, प्रधान, पंचायत समिति व जिला परिषद सदस्य सहित सभी की लॉटरी दोबारा निकलेगी। जिले में मांडल, सुवाणा, हुरड़ा, आसींद व बदनोर पंचायत समिति की लॉटरी निकाली जाएगी। यह काम जिला निर्वाचन कार्यालय को पांच फरवरी से पहले करना होगा। Elections will be held in postponed five panchayats इस आदेश से उन उम्मीदवारों की धड़कनें बढ़ गई है जो पहले ही नामांकन कर चुके हैं। जिले की मांडल पंचायत समिति की सभी ग्राम पंचायतों में नाम वापसी के बाद उम्मीदवारों ने प्रचार शुरू कर दिया था। एेसे में अब उनको चिंता है कि दोबारा वही लॉटरी आएगी या नहीं। इस बात को लेकर उनके चुनाव लडऩे पर ही संशय बन गया है।

-----------
इस फैसले से जिले में पांच बड़े असर
०१. जिले में सभी पंचायत समितियों के प्रधान के लिए फिर से लॉटरी निकलेगी। पहले १३ प्रधान के हिसाब से आरक्षण हुआ था। अब १४ पंचायत समितियां हो गई है। एेसे में लॉटरी वापस निकालेंगे।
०२. आसींद, बदनौर, मांडल, सुवाणा व हुरड़ा पंचायत समिति में पंचायत समिति सदस्यों की लॉटरी वापस निकलेगी। कारण है कि यहां प्रधान की लॉटरी वापस निकल रही है। एेसे में सदस्यों का आरक्षण फिर से तय होगा।
०३. मांडल, सुवाणा, बदनोर, हुरड़ा, आसींद में तो सरपंचों की लॉटरी फिर से निकलेगी, क्योंकि इसमें बदनौर नई पंचायत समिति बन गई है। वहीं मांडल व सुवाणा में नई पंचायतें बनी है।
०४. जिला परिषद सदस्यों की लॉटरी भी फिर से निकाली जा सकती है। कारण है कि पंचायत समितियों की जनंसख्या बदलेगी। बदनौर नई जुडऩे से सबके समीकरण पूरे बदल रहे हैं।

-------------
सीज रहेगा रिकॉर्ड
मांडल पंचायत समिति की सभी ग्राम पंचायतों में नामांकन प्रक्रिया पूरी होने के बाद नाम वापसी पूरी हो चुकी है। इसके बाद चुनाव स्थगित होने से इस रिकॉर्ड को सीज कर रखा है। अब दोबारा लॉटरी होने से यह रिकॉर्ड सीज ही रहेगा। अब पूरी प्रक्रिया नए सिरे से होगी।
--------

हो गया खर्चा, अब कैसे करें प्रचार
मांडल में पंच-सरपंचों ने नामांकन के बाद प्रचार शुरू कर दिया था और अभी उनका खर्चा चल रहा था। अब दोबारा लॉटरी निकालने के आदेश से उनका प्रचार बंद हो गया है। वहीं, कई उम्मीदवार अब खुश हो रहे हैं क्योंकि पहले उनकी मनपसंद सीट नहीं आई थी। एेसे में उनके चुनाव लडऩे का सपना अधूरा रह गया था। अब सीटें बदलने से उनके चुनाव लडऩे की उम्मीद फिर जग गई है।

[MORE_ADVERTISE1]