स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

किराया के मकान को बनाया हाईटेक, रोजाना 200 जनों का फंसाना लक्ष्य, ठगी की रकम से कर रहे थे ऐश

Mahesh Kumar Ojha

Publish: Oct 21, 2019 03:05 AM | Updated: Oct 21, 2019 03:05 AM

Bhilwara

सोशल साइट पर दोस्ती कर ठगी करने वालों ने दिल्ली को ठगी की राजधानी बना लिया। कोतवाली से दूसरी बार अनुसंधान को गई पुलिस टीम ठगों के ठिकाने को देख दंग रह गई

भीलवाड़ा।

सोशल साइट पर दोस्ती कर ठगी करने वालों ने दिल्ली को ठगी की राजधानी बना लिया। कोतवाली से दूसरी बार अनुसंधान को गई पुलिस टीम ठगों के ठिकाने को देख दंग रह गई। दिल्ली में आरोपियों का ठिकाना हाईटेक था। घर में घुसे तो बाहर निकलना मुश्किल। भीलवाड़ा पुलिस भी जान पर खेलकर ठग गिरोह के एक और सदस्य को साथ लेकर आई। उसके पास लेपटॉप, मोबाइल, सिम और अन्य दस्तावेज मिले।

पुलिस सूत्रों के अनुसार, नाइजीरियाई ठग की गैंग ने दिल्ली में किराए से बड़ा मकान ले रखा था, जिसके मुख्य गेट का लॉक अत्याधुनिक है। केवल गैंग सदस्य ही खोल सकते थे। गेट के अंदर घुसने के बाद दूसरा गेट था, जिस पर भी लॉक था। अंदर घुसने के बाद गेट बंद हो जाता और बिना पासवर्ड बाहर निकलना मुश्किल। यहां पचास से अधिक लोग ठगी का काम करते है। इनका मुख्य सरगना नाइजीरियाई बोनीफेस है। सरगना कहीं और बैठता है। वहीं से ठगी करने वालों पर नजर रखता।

शेयर मार्केट सा नजारा

पुलिस ठिकाने पर पहुंची तो शेयर मार्केट की तरह लेपटॉप चल रहे थे, जिन पर दिनभर शिकार की तलाश होती।। नाइजीरियाई टीम सोशल साइट पर फर्जी प्रोफाइल बना हाईप्रोफाइल महिला की तलाश करती। उसे फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजते। स्वीकार करते ही एक व्यक्ति अंगेजी में बात कर झांसे में लेता।
विधुर बता भावनात्मक जुड़ाव की कोशिश

सोशल साइट पर बात कर रहा व्यक्ति महिला से दोस्ती के लिए खुद को विधुर बताता। इसमें बच्चों का इस्तेमाल कर उसे अपना बता महिला से बात करवाते थे। दोस्ती होते ही ठगी शुरू कर देते। ठग रोज १०० से २०० लोग तलाशने का लक्ष्य लेकर चलते। एक के बाद एक फ्रें ड रिक्वेस्ट भेजते। इसमें औसतन रोज ५० महिलाएं रिक्वेस्ट मंजूर कर लेती। एक शिकार से २५ से ३० हजार वसूलने का लक्ष्य होता। शाम तक नाइजीरियाई गैंग चार से पांच लाख रुपए ठगी से खाते में डलवा लेती। इस पैसे से हाईप्रोफाइल जिदंगी जीते। ठगी के ऑफिस में दिनभर शराब-मांस उड़ाया जाता। भीलवाड़ा में गैंग के खुलासे के बाद दिल्ली से कई लोग फरार हो गए। जिस व्यक्ति को पुलिस लेकर आई उसने सेवानिवृत शिक्षिका से ठगी की राशि खाते में डलवाई थी। उधर, आरोपियों से ठगी की राशि बरामदगीे का प्रयास किया जा रहा है।