स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

1300 करोड़ की योजना, 10 लाख युवा बनेंगे समर्थ

Suresh Jain

Publish: Jan 23, 2020 11:44 AM | Updated: Jan 23, 2020 11:44 AM

Bhilwara

दिल्ली में योजना पर चर्चा

भीलवाड़ा।
samarth yojana टेक्सटाइल मंत्रालय ने 13०० करोड़ रुपए की 'स्कीम फॉर केपेसिटी बिल्डिंग इन टेक्सटाइल सेक्टरÓ बनाई है, जिसे समर्थ योजना नाम दिया है। इसमें देशभर से १० लाख युवाओं को रोजगार के लिए प्रशिक्षण देना है। इसके पीछे मंशा टेक्सटाइल एवं एपेरल उद्योगों के लिए प्रशिक्षत श्रमिक तैयार करना है। योजना पर मंगलवार को टेक्सटाइल संगठनों के साथ दिल्ली में चर्चा हुई। इसमें भीलवाड़ा से मेवाड़ चेम्बर के महासचिव आरके जैन व एसएस राजावत शामिल हुए।

samarth yojana जैन के बताया कि मंत्रालय के संयुक्त सचिव निहार रंजन दास ने टेक्सटाइल संगठनों से सक्रिय योगदान की अपील की। दास ने बताया कि योजना टेक्सटाइल उद्योग के खुद के ट्रेनिंग संस्थान, मंत्रालय के ट्रेनिंग संस्थान या अन्य प्रतिष्ठित ट्रेनिंग संस्थान के जरिये दी जाएगी। संस्थानों को प्रेक्टिकल के लिए मशीनरी खरीदने को वित्तीय मदद दी जाएगी। कोर्स टेक्सटाइल कमेटी तय करेगी। दास को प्रतिनिधिमण्डल ने जिले में कपड़ा उद्योग, प्रशिक्षण केंद्रों व श्रमिकों आदि की जानकारी दी। भीलवाड़ा में स्पिनिंग एवं विविंग सेक्टर में प्रशिक्षित श्रमिकों की आवश्यकता के बारे में बताया।

समर्थ योजना 2020
समर्थ योजना को संगठित और पारंपरिक वस्त्र समूहों में युवा श्रमिकों की क्षमता निर्माण के लिए लॉन्च किया गया। वित्त वर्ष 2025 तक कपड़ा क्षेत्र में 300 अरब डॉलर निर्यात के लिए 10 लाख युवाओं को कौशल विकास प्रशिक्षण देगा। केंद्र से आवंटित १३०० करोड़ से कताई और बुनाई को छोड़कर पूरे कपड़ा मूल्य श्रृंखला को कवर मिलेगा।

[MORE_ADVERTISE1]