स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

खाप पंचायत ने सुनाया तुगलकी फरमान, दो परिवारों का हुक्का-पानी कराया बंद

Rohit Sharma

Publish: Oct 22, 2019 04:13 AM | Updated: Oct 21, 2019 22:52 PM

Bharatpur

कामां क्षेत्र के गांव बिलंग में दो दिन पहले खेत की मेढ़ को लेकर हुए झगड़े में सोमवार को हुई खाप पंचायत में कथित पंचों ने दो परिवारों का हुक्का पानी बंद करने का फरमान सुनाया है।

भरतपुर. कामां क्षेत्र के गांव बिलंग में दो दिन पहले खेत की मेढ़ को लेकर हुए झगड़े में सोमवार को हुई खाप पंचायत में कथित पंचों ने दो परिवारों का हुक्का पानी बंद करने का फरमान सुनाया है। पंचों ने ग्रामीणों को हिदायत दी कि यदि कोई इन परिवारों से मेलजोल, लेन-देन करेगा या गांव की किसी दुकान से सामान खरीदेगा, खेत जोतेगा या अन्य किसी भी प्रकार का संबंध रखने पर उसे पंचायत के फैसले का उल्लंघन माना जाएगा। उसे दोषी मानते हुए ग्यारह हजार रुपए का जुर्माना वसूला जाएगा। हालांकि, पुलिस ने इस तरह के किसी मामले से इनकार किया है। साथ ही किसी भी पक्ष की ओर से शिकायत नहीं मिलने की बात कही है।


गौरतलब है कि दो दिन पहले को गांव बिलंग निवासी इलियास पुत्र रत्ती व अकरम पुत्र मुहुरूद्दीन के मध्य खेत की मेढ़ को लेकर झगड़ा हो गया था। इसमें दोनो पक्षों के हनीस, इलियास, आसिक, महिला रहीसन, अकरम, मुहूरूद्दीन गंभीर रूप से घायल हो गए। इन्हें अस्पताल में भर्ती कराया था। एक जने की हालत गंभीर होने पर उसे रैफर कर दिया था। सूचना पर पहुंची पुलिस ने समझाइश कर मामला शांत करा दिया था। बाद में ग्रामीणों ने भी समझाइश की। लेकिन रविवार देर रात को वापस विवाद हो गया। एक पक्ष द्वारा दूसरे पक्ष के लोगों के साथ मारपीट कर दी। इसमें एक युवक घायल हो गया। उसे अस्पताल में भर्ती कराया। मामला बढ़ता देख सोमवार सुबह गांव में पंचायत हुई। इसमें दोनों पक्ष इब्राहिम व रत्ती परिवार पर पंचायत ने 51-51 हजार रुपए जुर्माने का फरमान सुनाया। दोनों परिवार ने जुर्माना को गलत बताते हुए अदा करने से इनकार दिया। जिस पर पंचायत ने फैसला सुनाते हुए इब्राहिम पुत्र नसीब व रत्ती पुत्र छोटल्ली के परिवार को जात बाहर कर हुक्का पानी बंद करने का तुगलकी फरमान सुना दिया। इससे विवाद की स्थिति बनी हुई है। उधर, थाना प्रभारी धर्मेश यादव ने बताया कि हुक्का-पानी बंद करने जैसी कोई सूचना नहीं मिली है। न ही किसी भी पक्ष की ओर से थाने पर शिकायत दी है।