स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पुलिसकर्मियों को नए साल में मिलेंगे नए आवास

Rohit Sharma

Publish: Oct 18, 2019 06:04 AM | Updated: Oct 17, 2019 23:14 PM

Bharatpur

बड़े महकमे में शुमार पुलिस विभाग में शुरू से ही क्वार्टरों को लेकर खासी मारामारी रहती है। इसमें कांस्टेबल से हैड कांस्टेबल स्तर पर लोयर सबऑर्डिनेट (एलएस) क्वार्टर की कमी अधिकतर समय बनी रहती है।

भरतपुर. बड़े महकमे में शुमार पुलिस विभाग में शुरू से ही क्वार्टरों को लेकर खासी मारामारी रहती है। इसमें कांस्टेबल से हैड कांस्टेबल स्तर पर लोयर सबऑर्डिनेट (एलएस) क्वार्टर की कमी अधिकतर समय बनी रहती है। मुख्यालय पर इसको लेकर क्वार्टरों को लेकर लम्बी वेटिंग भी बनी हुई है। लेकिन सरकारी क्वार्टर लेने के लिए प्रतीक्षा सूची में लगे पुलिसकर्मियों को अब ज्यादा दिन इतंजार नहीं करना पड़ेगा। मुख्यालय पर पुलिस गिराई लाइन में पीछे की तरफ 24 नए लोयर सबऑर्डिनेट (एलएस) क्वार्टर अगले साल तक बन कर तैयार हो जाएंगे। क्वार्टर का अधिकतर कार्य हो चुका है। उधर, अधिकारियों के लिए चार नए आवास अन्वेषण भवन परिसर में तैयार हुए हैं। ये भी जल्द पुलिस विभाग को सुपुर्द हो जाएंगे।


गौरतलब रहे कि यातायात सर्किल के पास पुलिस गिराई लाइन में पूर्व में बने मल्टीस्टोरीज क्वार्टर क्षतिग्रस्त हो गए और नाकारा घोषित होने पर इन्हें ढहा कर वापस इसी जगह लोयर सबऑर्डिनेट के क्वार्टर निर्माणधीन है। ये क्वार्टर भी मल्टीस्टोरीज होंगे। माना जा रहा है कि ये क्वार्टर अगले साल के शुरुआत तक पूरी तरह से तैयार हो जाएंगे। इनका निर्माण आरएसआरडीसी कर रही है। बजट राशि मुहैया नहीं होने से बीच में कार्य सुस्त पड़ गया था।


मुख्यालय पर 282 एलएस व 26 यूएस क्वार्टर

इस समय मुख्यालय पर तीन अगल-अलग स्थानों पर पुलिस विभाग के क्वार्टर बने हुए हैं। इसमें पुलिस परेड मैदान के बगल में मल्टीस्टोरीज के 144 लोयर सबऑर्डिनेट क्वार्टर हैं। वहीं, पुलिस गिराई लाइन में पुराने 138 एलएस और इसी में अपर सबऑर्डिनेट (यूएस) के 10 और पुलिस लाइन स्थित अन्वेषण भवन परिसर में अपर सबऑर्डिनेट के 16 क्वार्टर बने हुए हैं। वहीं, गिराई लाइन में नए 24 एलएस और अन्वेषण भवन परिसर में 4 यूएस क्वार्टर बन रहे हैं।


एक एलएस क्वार्टर पर खर्च 22.25 लाख रुपए

पुलिस गिराई लाइन में निर्माण मल्टीस्टोरीज एक लोयर सबऑर्डिनेट क्वार्टर पर करीब 22.25 लाख रुपए का खर्च आ रहा है। सभी 24 क्वार्टरों पर 5.34 लाख रुपए और एक अपर सबऑर्डिनेट क्वार्टर पर करीब 33.27 लाख रुपए खर्च हो रहे हैं। इसमें अन्वेषण भवन के क्वार्टर करीब-करीब तैयार हो चुके हैं। एलएस क्वार्टर कांस्टेबल से हैड कांस्टेबल और यूएस क्वार्टर एएसआई से ऊपर के अधिकारी को आवंटित होते हैं।


क्वार्टर आवंटित के लिए बना रखी है समिति

महकमे ज्यादातर कार्मिक क्वार्टर की मांग करते हैं, जिससे क्वार्टर आवंटित को लेकर कर्मचारी वरिष्ठ अधिकारियों से सिफारिशें कराते हैं। वहीं, पूर्व में क्वार्टर लेने के लिए अधिक आवेदन आने पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (मुख्यालय) स्तर पर एक समिति बना रखी है। यह समिति क्वार्टर आवंटित पर अंतिम निर्णय लेती है।