स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बदमाश को तलाशने में पुलिस बरत रही सावधानी, रात में फिर से की फायरिंग

Rohit Sharma

Publish: Sep 19, 2019 07:16 AM | Updated: Sep 18, 2019 23:46 PM

Bharatpur

इनामी बदमाश सुरेश गुर्जर की तलाश में तीसरे दिन बुधवार को भरतपुर व अलवर पुलिस समेत एसओजी टीम सरगर्मी से तलाश में जुटी रही।

भरतपुर. इनामी बदमाश सुरेश गुर्जर की तलाश में तीसरे दिन बुधवार को भरतपुर व अलवर पुलिस समेत एसओजी टीम सरगर्मी से तलाश में जुटी रही। सूत्रों के अनुसार बदमाश के नगर थाना अंतर्गत गांव उसके गांव आरसी में छिपे होने की सूचना मिली। लेकिन पुलिस फिलहाल गांव के बाहर निगरानी रखे हुए हैं। उधर, बदमाश के मंगलवार देर रात फायरिंग करने की भी सूचना है। हालांकि, पुलिस पुलिस अधिकारी इस मामले पर कुछ भी बताने से कतरा रहे हैं। उधर, बदमाश की महिला साथी स्वाती को पुलिस ने कड़ी सुरक्षा में नगर कस्बा स्थित कोर्ट में लेकर लाई। लेकिन पीठासीन अधिकारी के नहीं होने से कार्रवाई नहीं हो पाई।


इससे पहले पुलिस को बदमाश के बुधवार तड़के सीकरी इलाके में होने की सूचना मिली, जिस पर पुलिस ने कई इलाकों में दबिश दी लेकिन बदमाश का कोई सुराग नहीं लगा। वहीं, पुलिस बदमाश की इलाके में निगरानी के लिए ड्रोन की सहायता से तलाशी अभियान चलाने की योजना बना रही है। गौरतलब रहे कि खोह थाने के गांव बेढ़म में 16 सितम्बर को पुलिस की बदमाश सुरेश गुर्जर गिरोह से मुठभेड़ हो गई। इस दौरान बदमाश फायरिंग कर खेत में भाग निकला। बदमाश की फायरिंग में युवक अमित जाट घायल हो गया। उसका जयपुर में इलाज चल रहा है।


रात में लगातार हो रही हैं बातचीत

सूत्रों के अनुसार बदमाश महिला साथी से लगातार संपर्क में हैं। वह नम्बर बदल-बदल कर महिला साथी स्वाती से मोबाइल पर बात कर रहा है। ये बातचीत ज्यादातर रात के समय हो रही हैं। बेढ़म में हुई मुठभेड़ के दिन बदमाश महिला साथी से मिलने उसके घर जा रहा था।


महिला साथी जमानत पर है बाहर

इनामी बदमाश सुरेश गुर्जर की महिला साथी स्वाति को पुलिस ने कड़ी सुरक्षा में यहां नगर स्थित न्यायालय में पेश किया। पीठासीन अधिकारी नहीं होने से मामले में सुनवाई नहीं हो सकी। जानकारी के अनुसार महिला साथी की जमानत देने वाले ने न्यायालय में प्रार्थना पत्र पेश कर अपनी जमानत वापस लेने की मांग की। हालांकि पीठासीन अधिकारी नहीं होने से मामले में कोई निर्णय नहीं हो सका। गौरतलब रहे कि इनामी बदमाश की धरपकड़ के लिए अलवर व भरतपुर की कई थानों की पुलिस ने 20 जून को गांव आरसी में दबिश दी थी। बदमाश पुलिस पर फायरिंग कर भाग गया लेकिन पुलिस ने उसके घर से महिला साथी स्वाति को अवैध हथियार के साथ पकड़ लिया। कोर्ट से उसे जेल भेज दिया। बाद में जमानत पर वह बाहर आ गई। इसी मामले में 29 जुलाई को अदालत में पीसी पर स्वाति की मां रामश्री व भाई नटवर आए थे। यहां कोर्ट परिसर में ही बदमाश सुरेश ने उन्हें मामले में पैरवी नहीं करने के लिए धमकाया था।