स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मोबाइल नंबर नहीं तो कर देंगे निरस्त...

Pramod Kumar Verma

Publish: Sep 23, 2019 03:01 AM | Updated: Sep 22, 2019 22:05 PM

Bharatpur

भरतपुर. श्रमिकों को योजनाओं के लाभ के लिए ऑनलाइन आवेदन करते समय स्वयं का मोबाइल नंबर दर्ज कराना होगा। ऐसा नहीं कराने पर आवेदन को निरस्त कर दिया जाएगा।

भरतपुर. श्रमिकों को योजनाओं के लाभ के लिए ऑनलाइन आवेदन करते समय स्वयं का मोबाइल नंबर दर्ज कराना होगा। ऐसा नहीं कराने पर आवेदन को निरस्त कर दिया जाएगा। यह निर्णय श्रमविभाग ने कार्य में पारदर्शिता लाने और श्रमिक वर्ग को अनावश्यक राशि ई-मित्र संचालकों को नहीं देने के उद्देश्य से किया है।

विभाग में भवन एवं अन्य संनिर्माण कार्य करने वाले श्रमिकों का पंजीयन होता है। यहां से पंजीकृत श्रमिकों को विभिन्न योजनाओं का लाभ देने का प्रावधान है, लेकिन इसके लिए ई-मित्र पर ऑनलाइन आवेदन करना होता है। आवेदन करते समय मोबाइल नंबर देना होता है, लेकिन अधिकांश संचालक अपना नंबर दर्ज कर देते हैं। ऐसे में सूचनाएं आवेदनकर्ता तक नहीं पहुंच पाती।

इससे आवेदन में कमी पूर्ति करने, कहां तक पहुंची है फाइल, क्या कमी रही और अगर सही है तो लाभार्थी को लाभ मिलेगा या नहीं आदि जानकारी नहीं मिलती हैं। ये भी सूचनाएं ई-मित्र संचालकों तक सीमित रह जाती हैं। ऐसे में विभाग का मानना है कि श्रमिकों से अनावश्यक राशि ली जाती है।


इस संबंध में विभाग में शिकायतें आ रही हैं कि ई-मित्र संचालक अपना मोबाइल नंबर दर्ज कर उन्हें कार्य का भरोसा दिलाते हैं, लेकिन पूरी जानकारी नहीं देते। अब भवन एवं संनिर्माण कर्मकार कल्याण मंडल के पोर्टल पर पंजीयन आवेदनों में तीन से अधिक आवेदनों में एक ही नंबर दर्ज होना पाया जाता है तो पोर्टल पर उसी नंबर के आधार पर आवेदन प्रस्तुत होने पर पोर्टल पर पॉपअप अलर्ट की व्यवस्था एलडीएमएस की ओर से कराई जाएगी।

दूसरी ओर से अब अगर ई-मित्र संचालक पंजीयन/योजनाओं का आवेदनों को पोर्टल पर अपलोड करने के लिए निर्धारित राशि से अधिक श्रमिकों से लेते हैं तो मजदूर वर्ग विभाग के टोल फ्री नंबर 1800-1800-999 पर सूचना दे सकते हैं।

श्रमविभाग भरतपुर में संभागीय संयुक्त श्रमायुक्त ओपी सहारण का कहना है कि शिकायतें आ रही हैं कि जब श्रमिक पंजीयन या योजना संबंधी आवेदन करने ई-मित्र संचालकों के पास जाते हैं तो वह स्वयं का मोबाइल डाल देते हैं। ऐसे में श्रमिकों तक सूचनाएं नहीं पहुंच पाती। अब ऐसा हुआ तो आवेदन निरस्त कर दिया जाएगा। श्रमिक अपना स्वयं का नंबर दर्ज कराएं।