स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कांग्रेस में कलह इसलिए पार्टी में कराया बसपा विधायकों का विलय

Rohit Sharma

Publish: Sep 19, 2019 04:07 AM | Updated: Sep 18, 2019 23:18 PM

Bharatpur

भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि बसपा अब कांग्रेस की सत्ता को बरकरार रखने का माध्यम बन गई है।

भरतपुर. भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि बसपा अब कांग्रेस की सत्ता को बरकरार रखने का माध्यम बन गई है। मतलब इस्तेमाल की विषय वस्तु बनकर रह गई है। वे बुधवार को जिला मुख्यालय पर एक दिवसीय प्रवास कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि ऐसे में लोगों को सोचना चाहिए कि कांग्रेस अब किस हद तक जा रही है। खुद बसपा की मुखिया मायावती को भी निर्णय लेना चाहिए। बसपा व कांग्रेस एक साथ हैं। ये कांग्रेस के लिए प्रयोगशाला बन गई है। जनता तय करेगी कि उनका प्रतिनिधि कैसा हो। पार्टी तय करे कि अशोक गहलोत कुर्सी बचाने के लिए कोईभी समझौता करने को तैयार है।


कांग्रेस के अंदर जो आक्रोश और आंतरिक कलह है उससे पार्टी बंटी हुईहै। मुख्यमंत्री व उप मुख्यमंत्री में आपस में कलह है। इसलिए पार्टी इस तरह की कोशिश करने में जुटी हुईहै। पूनिया का भरतपुर के बॉर्डर से लेकर शहर तक जगह-जगह करीब एक दर्जन से अधिक स्थानों पर स्वागत किया गया। इसके बाद वीणा महल पर हुई बैठक में प्रदेशाध्यक्ष पूनिया ने संभाग के चारों जिलों के जिलाध्यक्ष व अन्य पदाधिकारियों के साथ संगठन के चुनाव को लेकर विस्तार से मंथन किया। उन्होंने कहा कि चार दिवस में मतदाता सूची तैयार हो जानी चाहिए। ताकि निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार चुनाव कराए जा सकें। सबसे पहले बूथ के चुनाव होंगे। उसके बाद मंडल स्तर के चुनाव कराएंगे। ताकि मंडल अध्यक्षों की ओर से जिलाध्यक्ष का चुनाव किया जाएगा। तब जाकर प्रदेश व राष्ट्रीय स्तर का चुनाव होगा। इसमें कतई लापरवाही नहीं की जानी चाहिए। बैठक के बाद प्रदेशाध्यक्ष ने ग्रीन गार्डन मैरिज होम में प्रबुद्धजनों के साथ वार्ता की। यह कार्यक्रम धारा ३७० को लेकर हुआ। जहां निकाय चुनाव होने हैं, वहां यह कार्यक्रम किया जा रहा है। कार्यक्रम में रिटायर्ड डीएफओ लालसिंह व हरचरण समेत अन्य प्रबुद्धजनों से प्रदेशाध्यक्ष से धारा ३७० हटाए जाने के बाद उसके फायदों के बारे में जाना। साथ ही प्रबुद्धजनों का स्वागत किया। कार्यक्रम में जिलाध्यक्ष डॉ. जितेंद्र सिंह फौजदार, पूर्व मंत्री कृष्णेंद्र कौर दीपा, पूर्व विधायक विजय बंसल, डॉ. शैलेष सिंह, पूर्व जिलाध्यक्ष गिरधारी तिवारी, महामंत्री शिवराज तमरौली, मेयर शिवसिंह भोंट, अरविंदपाल सिंह, रितु बनावत, रज्जनसिंह, मनोज भारद्वाज, कुलदीप जघीना, देवो पंडा, संतोष चतुर्वेदी आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम के बाद प्रदेशाध्यक्ष श्रीगिरिराजधाम के लिए रवाना हुए।


मिट्टी के घड़ों में पिलाया कार्यकर्ताओं को पानी

हाल में ही प्रधानमंत्री की ओर से सिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगाने के बाद उसका उपयोग समाप्त किए जाने का आह्वान किया गया था। इसका असर प्रदेशाध्यक्ष के कार्यक्रम में भी दिखाई दिया। आयोजन समिति की ओर से कार्यक्रम स्थल मिट्टी के आठ घड़े रखवाए गए। कार्यकर्ताओं को प्लास्टिक के गिलास में पानी नहीं पीने के लिए प्रदेशाध्यक्ष ने संकल्प भी दिलाया। इसलिए कार्यकर्ताओं ने मिट्टी के घड़ों में लोटे से ही पानी पीया।