स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कलेक्टर और DEO ने नहीं सुनी बात तो स्कूल में ताला जड़कर सड़क पर उतरे बच्चे, दो घंटे जमकर हंगामा, Video

Dakshi Sahu

Publish: Nov 08, 2019 14:01 PM | Updated: Nov 08, 2019 14:01 PM

Bemetara

शासकीय हाईस्कूल अंधियारखोर के बच्चों ने शिक्षकों की मांग पूरी नहीं होने पर शुक्रवार सुबह स्कूल के मुख्य द्वार पर ताला जड़ दिया। विद्यार्थियों ने सड़क पर उतरकर जमकर विरोध प्रदर्शन किया। (Bemetara News)

बेमेतरा. जिले के पंडित भगवती प्रसाद मिश्रा शासकीय हाईस्कूल अंधियारखोर के बच्चों ने शिक्षकों की मांग पूरी नहीं होने पर शुक्रवार सुबह स्कूल के मुख्य द्वार पर ताला जड़ दिया। विद्यार्थियों ने सड़क पर उतरकर जमकर विरोध प्रदर्शन किया। स्थिति बिगड़ते देख किसी तरह प्राचार्य बच्चों को मनाने पहुंचे। लगभग दो घंटे की मशक्कत के बाद हायर सेकंडरी स्कूल के बच्चे वापस शाला लौटे। जिला मुख्यालय से महज 15 किमी. दूर स्कूल में हंगामे की खबर से जिला शिक्षा विभाग में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में अधिकारियों ने स्कूल के प्राचार्य को तलब किया। (government school Bemetara)

बच्चों ने बताया कि स्कूल में कला, वाणिज्य, विज्ञान व कृषि संकाय की हायर सेकंडरी क्लास लगती है। स्कूल के लिए करीब 22 टीचरों का सेटअप जारी किया गया है। जिसमें 14 कार्यरत हैं और 8 पद रिक्त है। रिक्त पदों में हिन्दी, कृषि, गणित, अगं्रेजी के टीचर नहीं है। दो टीचर जो संस्कृत पढ़ा रहे थे उनका तबदला भी कर दिया गया है। वहीं दो टीचरों को अटैच पर रखा गया।

[MORE_ADVERTISE1] [MORE_ADVERTISE2]

इसलिए सड़क पर उतरे विद्यार्थी
जिले में सबसे अधिक विद्यार्थी वाले अंधियारखोर स्कूल में करीब 750 बच्चे अध्ययनरत हैं। जिसके बाद भी शिक्षा विभाग द्वारा स्कूल के 2 शिक्षकों को विगत 6 महीनों से दूसरे ब्लॉक की स्कूलों में अटैच कर दिया गया है। बच्चों ने जिला शिक्षा अधिकारी और कलेक्टर के पास शिक्षकों की कमी के कारण पढ़ाई बाधित होने की शिकायत की थी। महीनों बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई तो विद्यार्थियों ने मोर्चा खोल दिया। शुक्रवार को पढ़ाई प्रभावित होने का हवाला देते हुए स्कूल में ताला जड़ दिया। जिसके बाद प्राचार्य ने उन्हें समझाइश दी जिसके बाद बच्चे मान गए और ताला खोल दिया गया

आवेदन के बाद भी नहीं हुई कार्रवाई
स्कूल के शाला नायक थाना राम साहू ने बताया कि शिक्षकों की कमी के चलते पढ़ाई प्रभावित हो रही है। बोर्ड परीक्षा सिर पर है और 2 शिक्षकों को दूसरे ब्लॉक की स्कूल में अटैच कर दिया गया है। जिससे कारण हमने जिला शिक्षा अधिकारी और कलेक्टर को आवेदन दिया था। कोई कार्रवाई नहीं की गई है। इस कारण स्कूल में तालाबंदी किया गया है। इस मामले में प्राचार्य बीआर हिरवानी ने कहा कि स्कूल में शिक्षकों की कमी नहीं है। बच्चे कानून को अपने हाथ में ले रहे हैं जो गलत है। शिक्षकों की कमी जरूर है पर स्कूल अपने स्तर पर प्रयास कर रहा है ताकि बच्चों की पढ़ाई बाधित न हो।

[MORE_ADVERTISE3]