स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

SDM ऑफिस में किसान को तमाचा जडऩा बाबू को पड़ गया भारी, कलेक्टर ने थमाया ट्रांसफर ऑर्डर

Dakshi Sahu

Publish: Nov 07, 2019 12:20 PM | Updated: Nov 07, 2019 12:20 PM

Bemetara

मारपीट के पीडि़त किसान मूलचंद साहू ने सोमवार को जनचौपाल में कलेक्टर व विधायक आशीष छाबड़ा को ज्ञापन सौंपकर आरोपी लिपिक के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी।

बेमेतरा. बेरला तहसील कार्यालय में पदस्थ लिपिक यज्ञदत्त देशमुख का नवागढ़ तहसील कार्यालय स्थानांतरण किया गया है। इस स्थानांतरण को किसान के साथ हुए विवाद से जोड़कर देखा जा रहा है। जानकारी के अनुसार यह कार्रवाई डिप्टी कलेक्टर के आदेश पर हुई है।

कलेक्टर से की थी शिकायत
गौरतलब हो कि मारपीट के पीडि़त किसान मूलचंद साहू ने सोमवार को जनचौपाल में कलेक्टर व विधायक आशीष छाबड़ा को ज्ञापन सौंपकर आरोपी लिपिक के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। यहां विधायक ने लिपिक पर कार्रवाई के लिए जिला प्रशासन को पत्र लिखा था। किसानों के आक्रोश को देखते हुए मंगलवार को लिपिक यज्ञदत्त के स्थानांतरण का आदेश जारी किया गया।

Read more: कांग्रेसी पार्षद ने ट्रैक्टर चालक का ईंट से सिर फोड़ा, मामला तूल पड़कते देख मौके से हो गया फरार....

विधायक से की थी शिकायत
मामला मिसल निकलवाने के दौरान पीडि़त किसान के साथ दुव्र्यवहार व तमाचा मारने का है। पीडि़त किसान के अनुसार घटना के 20 दिन बीत जाने बाद भी न्याय नहीं मिला है। इस संबंध में विधायक से शिकायत करने के बाद उन्होंने कार्रवाई का आश्वासन दिया था। अब लिपिक का स्थानांतरण नवागढ़ किया गया है। हालांकि इस कार्रवाई को किसान संतोषजनक नहीं मान रहे हैं। उन्होंने लिपिक को बर्खास्त करने की मांग की है।

Read more: रेलवे पटरी पर सिर रखकर प्रेमी जोड़े ने दे दी जान, दोनों का सिर, धड़ से अलग देख कांप गए लोग...

गृहमंत्री को भी सौंपा था ज्ञापन
गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू बुधवार को बेमेतरा प्रवास पर थे। पीडि़त किसान व उसके साथियों ने गृहमंत्री को ज्ञापन सौंपकर अपनी व्यथा बताते हुए कहा कि बेरला तहसील कार्यालय में अपना काम लेकर पहुंच रहे किसानों के साथ दुव्र्यवहार किया जा रहा है। इसका विरोध करने पर कार्यरत लिपिक ने मारपीट करने के साथ किसान के खिलाफ थाने में मामला दर्ज कराया। ज्ञापन सौंपने के दौरान मूलचंद साहू, रामचंद साहू, मोहन साहू आदि मौजूद थे।

[MORE_ADVERTISE1]